वायरल

करीना और सैफ का भद्दा मज़ाक : बेटे का नाम हत्यारे, लुटेरे, बलात्कारी तैमूर के नाम पे रखा !

बॉलीवुड स्टार करीना कपूर खान और सैफ अली खान ने मंगलवार सुबह ब्रीच कैंडी अस्पताल में बेटे को जन्म दिया. जन्म के बाद पिता सैफ अली खान और करीना का बेटा पैदा होते ही बड़े जोर शोर से सूखे नामकरण का खुलासा क्या किया, पूरे सोशल मीडिया पे कोहराम मच गया और दोनों के इस बढ़े मज़ाक पे पब्लिक ने उन्हें जम के कोसा !

saif kareena Baby Taimur Controversy, Viral News Kareen Kapoor Khan, Saif Ali Khan Viral News

बेटे के जन्म के फ़ौरन बाद सैफ ने सोशल मीडिया पे खुशी जाहिर करते हुए कहा, ‘मुझे ये खबर देते हुए बहुत खुशी हो रही है कि हमारे घर एक बीटा पैदा हाउस है जिसका नाम हमने “तैमूर अली खान पटौदी” रखा है ! इस खबर का एलान करने की देरी थी, की पूरे सोशल मीडिया पे ये वायरल हो गया और लोग करीना सैफ को जम कर कोसने लगे.

kareena khan baby controversy

46 साल के पिता बने सैफ अली खान और 36 वर्षीय करीना कपूर की शादी वर्ष 2012 में हुई थी. सैफ की उनकी पहली बीवी अमृता सिंह से भी एक बेटी सारा और एक बेटा इब्राहिम है. वहीं, सोमवार को सैफ ने कहा था, ‘आनेवाला बच्चा आधा मेरा है और आधा करीना का है. यह बच्चा हम दोनों के इस रिलेशनशिप को पूरा कर देगा.

तैमूर नाम रखने पे क्यों फूटा लोगों का गुस्सा ?

गौरतलब है, तैमूर लंग इतिहास का सबसे क्रूर लुटेरा और हत्यारा था, उसका जन्म सन्‌ 1336 में ट्रांस-आक्सियाना (Transoxiana), ट्रांस आमू और सर नदियों के बीच का प्रदेश, मावराउन्नहर, में केश या शहर-ए-सब्ज नामक स्थान में हुआ था। उसके पिता ने इस्लाम कबूल कर लिया था। अत: तैमूर भी इस्लाम का कट्टर अनुयायी हुआ। वह बहुत ही महत्वाकांक्षी व्यक्ति था। मंगोल विजेता चंगेज खाँ की तरह वह भी समस्त संसार को अपनी शक्ति से रौंद डालना चाहता था और चंगेज खाँ की पद्धति पर ही उसने अपनी सैनिक व्यवस्था कायम की और चंगेज की तरह ही उसने क्रूरता और निष्ठुरता के साथ दूर-दूर के देशों पर आक्रमण कर उन्हें तहस नहस किया। 1380 और 1387 के बीच उसने खुरासान, सीस्तान, अफगानिस्तान, फारस, अजरबैजान और कुर्दीस्तान आदि पर आक्रमण कर उन्हें अधीन किया। 1393 में उसने बगदाद को लेकर मेसोपोटामिया पर आधिपत्य स्थापित किया। इन विजयों से उत्साहित होकर अब उसने भारत पर आक्रमण करने का निश्चय किया। उसके अमीर और सरदार प्रारंभ में भारत जैसे दूरस्थ देश पर आक्रमण के लिये तैयार नहीं थे, लेकिन जब उसने इस्लाम धर्म के प्रचार के हेतु भारत में प्रचलित मूर्तिपूजा का विध्वंस करना अपना पवित्र ध्येय घोषित किया, तो उसके अमीर और सरदार भारत पर आक्रमण के लिये राजी हो गए।

kareena khan baby controversy

मूर्तिपूजा का विध्वंस तो आक्रमण का बहाना मात्र था। वस्तुत: वह भारत के स्वर्ण से आकृष्ट हुआ। भारत की महान्‌ समृद्धि और वैभव के बारे में उसने बहुत कुछ बातें सुन रखी थीं। अत: भारत की दौलत लूटने के लिये ही उसने आक्रमण की योजना बनाई थी। उसे आक्रमण का बहाना ढूँढ़ने की अवश्यकता भी नहीं महसूस हुई। उस समय दिल्ली की तुगलुक सल्तनत फिरोजशाह के निर्बल उत्तराधिकारियों के कारण शोचनीय अवस्था में थी। भारत की इस राजनीतिक दुर्बलता ने तैमूर को भारत पर आक्रमण करने का स्वयं सुअवसर प्रदान दिया।

1398 के प्रारंभ में तैमूर ने पहले अपने एक पोते पीर मोहम्मद को भारत पर आक्रमण के लिये रवाना किया। उसने मुलतान पर घेरा डाला और छ: महीने बाद उसपर अधिकार कर लिया।

taimur-lang-mosque-uzbekistan

अप्रैल 1398 में तैमूर स्वयं एक भारी सेना लेकर समरकंद से भारत के लिये रवाना हुआ और सितंबर में उसने सिंधु, झेलम तथा रावी को पार किया। 13 अक्टूबर को वह मुलतान से 70 मील उत्तर-पूरब में स्थित तुलुंबा नगर पहुँचा। उसने इस नगर को लूटा और वहाँ के बहुत से निवासियों को कत्ल किया तथा बहुतों को गुलाम बनाया। फिर मुलतान और भटनेर पर कब्जा किया। वहाँ हिंदुओं के अनेक मंदिर नष्ट कर डाले। भटनेर से वह आगे बढ़ा और मार्ग के अनेक स्थानों को लूटता-खसोटता और निवासियों को कत्ल तथा कैद करता हुआ दिसंबर के प्रथम सप्ताह के अंत में दिल्ली के निकट पहुँच गया। यहाँ पर उसने एक लाख हिंदू कैदियों को कत्ल करवाया। पानीपत के पास निर्बल तुगलक सुल्तान महमूद ने 17 दिसम्बर को 40,000 पैदल 10,000 अश्वारोही और 120 हाथियों की एक विशाल सेना लेकर तैमूर का मुकाबिला किया लेकिन बुरी तरह पराजित हुआ। भयभीत होकर तुगलक सुल्तान महमूद गुजरात की तरफ चला गया और उसका वजीर मल्लू इकबाल भागकर बारन में जा छिपा।

दूसरे दिन तैमूर ने दिल्ली नगर में प्रवेश किया। पाँच दिनों तक सारा शहर बुरी तरह से लूटा-खसोटा गया और उसके अभागे निवासियों को बेभाव कत्ल किया गया या बंदी बनाया गया। पीढ़ियों से संचित दिल्ली की दौलत तैमूर लूटकर समरकंद ले गया। अनेक बंदी बनाई गई औरतों और शिल्पियों को भी तैमूर अपने साथ ले गया। भारत से जो कारीगर वह अपने साथ ले गया उनसे उसने समरकंद में अनेक इमारतें बनवाईं, जिनमें सबसे प्रसिद्ध उसकी स्वनियोजित जामा मस्जिद है।

तैमूर भारत में केवल लूट के लिये आया था। उसकी इच्छा भारत में रहकर राज्य करने की नहीं थी। अत: 15 दिन दिल्ली में रुकने के बाद वह स्वदेश के लिये रवाना हो गया। 9 जनवरी 1399 को उसने मेरठ पर चढ़ाई की और नगर को लूटा तथा निवासियों को कत्ल किया। इसके बाद वह हरिद्वार पहुँचा जहाँ उसने आस पास की हिंदुओं की दो सेनाओं को हराया। शिवालिक पहाड़ियों से होकर वह 16 जनवरी को कांगड़ा पहुँचा और उसपर कब्जा किया। इसके बाद उसने जम्मू पर चढ़ाई की। इन स्थानों को भी लूटा खसोटा गया और वहाँ के असंख्य निवासियों को कत्ल किया गया। इस प्रकार भारत के जीवन, धन और संपत्ति को अपार क्षति पहुँचाने के बाद 19 मार्च 1399 को पुन: सिंधु नदी को पार कर वह भारतभूमि से अपने देश को लौट गया।

Related posts

भगौडे डाक्टरो पर सरकार का शिकंजा,हिमाचल सरकार की पहली बार इन डाक्टरों पर सख्त करवाई जनता ने किया स्वागत

Viral Bharat

अगर काम बोलता है…तो पूरे उत्तर भारत में मजदूर उत्तर प्रदेश से ही क्यों बनते हैं ?

Viral Bharat

मोदी और देश के खिलाफ बोलने पे इमाम बरकाती की धुनाई हुई…मार मार के खोपड़ी सुजा दी !

Viral Bharat