स्वास्थय और ब्यूटी

जानिये क्या है सेरोगेसी

सरोगेसी क्या हैं ? –

सेरोगेसी के जरिए जो दंपत्ति शारीरिक अक्षमता के चलते बच्चा प्राप्त नहीं कर सकते उन्हें कृत्रिम विधि से किसी अन्य महिला को गर्भस्थ करा कर बच्चे का सुख प्राप्त हो सकता है। उन्हें किसी अन्य महिला को गर्भस्थ करने और प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले खर्च सहित, उसकी फीस चुकानी होती है। इस प्रकार से प्राप्त बच्चे को किराये की कोख या सेरोगेट मदर की सेवाएं लेने का नाम लिया जाता है ।  

urrogate-mother-meaning

भारत में सेरोगेसी के नियम –

मोदी सरकार ने उस बिल को मंजूरी दे दी जिसमें किराये की कोख (सरोगेसी) वाली मां के अधिकारों की रक्षा के उपाय किए गए हैं। साथ ही सरोगेसी से जन्मे बच्चों के अभिभावकों को कानूनी मान्यता भी देने का प्रावधान है।

बता दें कि कैबिनेट से पास सरोगेसी रेगुलेशन बिल 2016 में यह साफ है कि अविवाहित पुरुष या महिला, सिंगल, लिव-इन रिलेश्नशिप में रहने वाले जोड़े और समलैंगिक जोड़े भी अब सरोगेसी के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं। वहीं, अब सिर्फ रिश्तेदार में मौजूद महिला ही सरोगेसी के जरिए मां बन सकती है।

surrogacy_bill_india

सेरोगेसी के प्रकार –

सेरोगेसी के दो प्रकार होते हैं आइये हम आपको इन दोनों के बारे में जानकारी देते हैं –

ट्रेडिशनल सेरोगेसी –

इसमें पुराने तरीके से बच्चे को बनाया जाता हैं | इसमें केवल पिता के शुक्रानुओ का इस्तेमाल होता हैं | इस सरोगेसी में सबसे पहले पिता के शुक्राणुओं को एक अन्य महिला के अंडाणुओं के साथ निषेचित किया जाता है, जिसमें जैनेटिक संबंध सिर्फ पिता से होता है |

जेस्टेंशनल सरोगेसी

इसमें माता-पिता के अंडाणु व शुक्राणुओं का मेल परखनली विधि से करवा कर भ्रूण को सरोगेट मदर की बच्चेदानी में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है । इस विधि में बच्चे का जैनेटिक संबंध माता-पिता दोनों से होता है ।सेरोगेसी भारत में आजकल बहुत ही प्रचलित हैं और इसका उपयोग सबसे ज्यादा हो रहा हैं |

भारत में सरोगेसी का खर्चा–

सबसे पहली बात यह है कि यहां भारत में किराए की कोख लेने का खर्चा यानी सरोगेसी का खर्चा अन्य देशों की तुलना में बहुत कम है , और साथ ही भारत में ऐसी बहुत सी गरीब और लाचार महिलाएं भी मौजूद हैं जो बड़ी ही आसानी से सरोगेट मदर बनने को तैयार हो जाती हैं। एक ओर जहां, सरोगेट मदर जो बनती हैं उनका प्रेग्नेंट होने से लेकर डिलीवरी तक अच्छी तरह से देखभाल किया जाता है, वहीं साथ ही उन्हें अच्छी खासी रकम भी दी जाती है

Related posts

सर्दियों में बड़े कमाल का गाजर

Viral Bharat

सावधान – क्या आप बच्चों को एल्युमीनियम फॉयल में खाना लपेट के खिला रहे हैं… ये कैंसर और भयानक बीमारियों का करण सिद्ध हो रहा है !

Viral Bharat

तृप्त सिंह – मोदी प्रशंसक, पंजाबी शेर, 25 साल के युवा भी इनसे घबराते हैं.

Viral Bharat