धर्म अध्यात्म

शिवरात्रि विशेष – भूलकर भी शिव जी को ये 6 चीजे ना चढ़ाएं

शिवरात्रि विशेष : भूलकर भी शिव जी को ये 6 चीजे ना चढ़ाएं | Some Important Rules for Shiva Puja on Shivalinga

कल्पवृक्ष के समान है शिव आराधना  शिव औढरदानी, कल्याण के देवता माने गए हैं। सृष्टि निर्माण में एक ही शक्ति तीन रूपों में अपना कार्य संपादन करते हुए दिखाई देती है। हम भारतवासी बहुदेव उपासक हैं। दिव्यता से आच्छादित जहां जहां आभा, प्रभा, सुभा और दिव्यता वहां वहां देवता। बहुदेव नीराजन हमारा स्वभाव है लेकिन शिव देव नहीं महादेव हैं। वे हजारों बरस से भारत के मन में रमते हैं। एक अकेले ही। एको रूद्र द्वितीयोनास्ति। भारत के कुछेक विद्वान रूद्र शिव को आयातित देवता मानते हैं।

Mahashivratri Details In Hindi, Mahashivratri Puja And Vrat Vidhi In Hindi, Mahashivratri Katha In Hindi, Mahashivratri Mantra In Hindi, Complete Information About Mahashivratri In Hindi, महाशिवरात्रि पूजा विधि, महाशिवरात्रि कथा, महाशिवरात्रि मंत्र, Religion News in Hindi: importance of shivratri night , शिवरात्रि की रात में पूजा विशेष फलदायी , Read all Religion Latest and Breaking News in Hindi

शिव उपासना पश्चिम एशिया व मध्य एशिया तक विस्तृत थी भी। वे इसी क्षेत्र को शिव उपासना का मूल केन्द्र बताने की गलती है लेकिन प्रख्यात माक्र्सवादी चिन्तक डाॅ. रामविलास शर्मा ने भारतीय संस्कृति और हिन्दी प्रदेश (पृष्ठ 679) में लिखा है “वास्तव में शैवमत, वैष्णवमत, बौद्धमत इन सबके स्रोत भारत में थे। यहां से इन मतों का प्रसार मध्य एशिया और पश्चिमी एशिया में हुआ।” शिव गूढ़ रहस्य हैं। युधिष्ठिर के मन में शिव जिज्ञासा थी।शिव भोले शंकर हैं, औघड़दानी हैं। गण समूहों के मित्र हैं। गणों के साथ स्वयं भी नृत्य करते हैं। गण देवता गणेश स्वाभाविक ही उनके पुत्र हैं। वे रूद्र शिव एशिया के बड़े भूभाग में प्राचीन काल से ही उपासित हैं। सत्य आराध्य है। लेकिन शिव सत्य आनंददाता हैं। सत्य और शिव का एकात्म सुंदर होता है। शिव अखिल ब्रह्म की ऊर्जा हैं। लेकिन यह ऊर्जा सहज प्राप्य नहीं है। शिव प्राप्ति के प्रयास जरूरी हैं। पार्वती को भी शिव प्राप्ति के लिए महातप करना पड़ा था।

Shivaratr-puja

भगवान शिव का सबसे विशाल पर्व महाशिवरात्रि 7 मार्च को है। इस दिन भोले बाबा को प्रसन्न करने के लिए उनके भक्त तरह-तरह की चीजें अर्पित करते हैं। लेकिन कई बार उत्साह में आकर ऐसी गलती हो जाती है जिससे भोले बाबा खुश होने की बजाय अप्रसन्न जाते हैं हो। आपसे ऐसी गलती नहीं हो इसलिए उन 6 चीजों के बारे में जान लीजिए जो भोले बाबा को नहीं चढ़ाना चाहिए।
(1).भोले बाबा को शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए।
(2).कोई भी श्रृंगार की वस्तु भाले बाबा को नहीं चढ़ाएं।
(3).भगवान शिव को तुलसी का पत्ता भी नहीं चढ़ाना चाहिए।  
(4).भगवान शिव का नारियल पानी से अभिषेक नहीं करना चाहिए 
(5).भगवान शिव को उबला हुआ या पैकेट का दूध  नहीं अर्पित करना चाहिए।
(6).भगवान शिव को कुमकुम और सिंदूर भी नहीं चढ़ता है। 

Mahashivratri Details In Hindi, Mahashivratri Puja And Vrat Vidhi In Hindi, Mahashivratri Katha In Hindi, Mahashivratri Mantra In Hindi, Complete Information About Mahashivratri In Hindi, महाशिवरात्रि पूजा विधि, महाशिवरात्रि कथा, महाशिवरात्रि मंत्र

Related posts

सूर्य भगवान की आरती

Viral Bharat

राम मंदिर बनकर रहेगा…न्यायलय से हल नहीं निकला..ऊँगली टेहड़ी करेंगे, लाएंगे संसद में अध्यादेश, अयोध्या में राम मंदिर निर्माण बनाना हमारा धर्म : केशव मौर्य !

Viral Bharat

भगवान् कृष्ण की खोज और उनसे जुडी बातें

Viral Bharat