व्यापार

घर के लिए होम लोन

घर के लिए होम लोन

हर व्यक्ति की ख्वाइश होती है की उनका खुद का घर हो। ज्यादा पैसे न होने  के कारण व्यक्ति अपना खुद का घर नही बना सकता और न ही घर  खरीद सकता है। इस  समस्या को आसानी से सुलझाया जा सकता है। अगर आपके पास एक साथ इतने सारे पैसे नही है की आप अपना घर खरीद सके या बना सके तो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप बैंक से होम लोन ले सकते है। बैंक से होम लोन लेने पर आप आसानी से अपना घर बनवा सकते है या खरीद सकते है। बैंक आपको आपके घर के लिए लोन देगा जो लोन आप बाद मे धीरे-धीरे कर के चुका सकते है बस इसके लिए बैंक आपसे थोड़ा  ब्याज लेगा, पर आप आसानी से इसे चुका देंगे।  इसलिए अगर आप भी अपना खुद का घर लेना चाहते है और आपके पास इतने पैसे नही है कि आप अपना घर बनवा सके या खरीद सके तो बैंक से होम लोन ले, जिससे आपका घर बन सकें।

फिक्स्ड लोन क्या हैं ?

फिक्स्ड होम लोन में बैंक फिक्स्ड इंटरेस्ट चार्ज लेती है। फिक्स्ड लोन में आपको फिक्स्ड रेट पर लोन मिलता है। अगर रिज़र्व बैंक द्वारा रेपो रेट में कमी या बढ़ोतरी होती है तो तब भी बैंक इंटरेस्ट रेट में कोई बदलाव नही करता है। आपको जिस इंटरेस्ट में बैंक ने लोन दिया है बैंक उतने ही इंटरेस्ट में लोन वापस लेता है, आपके इंटरेस्ट को बढ़ाता नही है। यानि इंटरेस्ट रेट बढ़ने पर आपके ब्याज की दर नही बढ़ती है और ईएमआई नहीं बढ़ती है।

home-loan-schemes

 

फ्लोटिंग लोन –

फ्लोटिंग होम लोन में बाजार के हिसाब से ब्याज दर तय होती है। फ्लोटिंग की ब्याज दरे बाजार की स्थिति के अनुसार बदलती रहती है इसका असर बैंक को देने वाली मासिक किश्त पर पड़ता है। इससे ईएमआई ऊपर-नीचे होती रहती है। ब्याज दर कम या ज्यादा होने पर कम होती रहती है और बढ़ती रहती है। जब रिज़र्व बैंक रेपो रेट बढ़ाता है तो बैंक भी ब्याज दर बड़ा देती है। ब्याज दर बढ़ने के कारण लोगो को अपनी योजना से भी ज्यादा पैसा ब्याज के रूप में देना पड़ता है।

क्या चुने –

  • फ्लोटिंग लोन की दर फिक्स्ड लोन की दर से कम होती है, इसलिए फ्लोटिंग लोन को अधिकतर लोग अपनाते है।
  • फिक्स्ड लोन में ऊंची ब्याज दर का रिस्क होता है, लेकिन फ्लोटिंग लोन में ऊंची ब्याज दर का कोई रिस्क नही है।
  • अगर ब्याज दर कम है तो आपको फिक्स्ड लोन में फ्लोटिंग लोन से ज्यादा फायदा होगा।
  • ब्याज दर घटने पर फ्लोटिंग होम लोन में काफी फायदा मिलता है, लेकिन फिक्स्ड लोन में ब्याज दर घटने पर कोई फायदा नही होता है।
  • अगर महंगाई ज्यादा है तो आप लोन लेते वक़्त फ्लोटिंग लोन को चुने इस वक़्त आपको फ्लोटिंग लोन में ज्यादा फायदा होगा |
  • महंगाई कम होने पर आप फिक्स्ड लोन को चुने क्योंकि महंगाई ज्यादा होने पर फिक्स्ड लोन की ब्याज ज्यादा होती है।

 

Related posts

बीमा पालिसी कितने तरह की होती हैं ?

Viral Bharat

नए वजट में होम लोन लेने वालो को ये फायदा

Viral Bharat

वायरल : आयकर विभाग की एक्सिस बैंक में छापेमारी !

Viral Bharat