राजनीती राज्यों से वायरल

Breaking : योगी और आज़म खान साथ होने से सपा में घबराहट, मंदिर मुद्दे पे आज़म और मुस्लिम समुदाय आ सकते हैं समर्थन में !

Yogi and Azm khan together for Ram temple issue ?

योगी आदित्यनाथ और आज़म खान के साथ होने से अखिलेश और सपा में घबराहट, राम मंदिर मुद्दे पे आज़म मुस्लिम समुदाय को कर सकते हैं राज़ी. आज़म खान और योगी का अचानक एक साथ हाथों में हाथ डालना अखिलेश यादव के लिए घबराहट पैदा कर रहा है और समाजवादी पार्टी में बेचैनी बढ़ गई है..कयास लगाए जा रहे हैं की आज़म खान योगी आदित्यनाथ की नज़दीकियां अचानक ही नहीं हुई हैं, इसके पीछे राम मंदिर मुद्दे पे आज़म खान से संभावित मुद्दे पे शांति से समर्थन प्राप्त करना भी है, जब श्री राम की भव्य मूर्ती लगवाने के लिए आज़म खान खुद बयान दे चुके हैं उसके चलते राजनैतिक विश्लेषकों ने योगी की आगामी रणनीति को समझने की कोशिश की है. इस समय जब राम मंदिर का मुद्दा चरम पे गरमाया हुआ है, और आज़म खान का अचानक साथ आना सबको हैरान करने वाला है…कहीं ये अप्रयत्क्ष रूप से आज़म खान का योगी आदित्यनाथ को मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधि होने के नाते मनिदर मुद्दे पे समर्थन तो नहीं ?

will azam khan help making ram temple ?

दीपावली के उपलक्ष में योगी आदित्यनाथ का अयोध्या जाना लगभग तय है…ऐसे में आज़म खान के साथ हाथों में हाथ दाल के मुस्कुराना बड़े बड़े दिग्गजों को पच नहीं रहा..अगर सच में ऐसा होता है तो सेकुलरिज्म की आड़ में मुस्लिम समुदाय को हांकने वाले राजनैतिक दलों का हवाई महल धड़ाम से आ गिरेगा और अयोध्या में मंदिर बनने का मार्ग प्रशस्त हो जायेगा.

इस पुराने वीडियो में आज़म खान अपनी उदार छवि दिखाने की कोशिश भी कर रहे हैं !

एक नज़रिया राम मंदिर के इलावा ये भी निकल रहा है की कहीं आज़म खान का साथ लेकर योगी आदित्यनाथ सपा पे अप्रयत्क्ष हमला करेंगे, जिससे अखिलेश यादव की पकड़ पार्टी पे कमज़ोर होगी और आज़म खान और कद्दावर हो के निकलेंगे. अभी तक आज़म खान हिन्तुव पे प्रति सख्त रवैया रखने वाले मुस्लिम नेता की छवि बनाये हुए थे..अचानक योगी के साथ हाथों में हाथ डाल के घूमने से इस बात को बल मिल रहा है के योगी और आज़म खान में ज़रुर कोई करिश्माई जुगलबन्दी उभर के आ रही है जिस से बड़े बड़े राजनैतिक धुरंधर पास्ट हो सकते हैं. अगर आज़म खान राम मंदिर के लिए सहयोग की बात करते हैं तो इस से मंदिर विरोध करने वाले धड़े को बहुत करारा झटका लगेगा और साथ में उत्तर प्रदेश में सेकुलरिज्म की राजनीती करने वालों की हवा निकल जायेगी.

आज़म खान ने कहा, “भगवान राम की मूर्ति, जो कि मंदिर शहर में सरयू नदी के पास बनाई जा सकती है, को हाल ही में निर्मित सरदार वल्लभाई पटेल की मूर्ति की तुलना में लंबा बनाया जाना चाहिए…साथ में उन्होंने कहा मैं अचभित हूँ आजतक किसी ने इस विषय पे गंभीरता से क्यों नहीं सोचा. मैं रामपुर में भगवान राम की एक और लंबी मूर्ति चाहता हूं, “खान ने कहा । अब ये आने वाले समस्य बताएगा की इन तरह की वक्तव्यों के पीछे आज़म खान कोई खेल खेलना चहिते हैं या वाकिये में सबको हैरान करने मुस्लिम समुदाय में अपनी उदार प्रस्तुत करने का प्रयास करेंगे. फिलहाल मीडिया में योगी और आज़म खान की दोस्ती से सपा और अखिलेश यादव की बेचैनियां ज़रूर बढ़ा दी हैं. न जाने योगी एक तीर से कितने शिकार करने वाले हैं…अभी ये भविष्य के गर्भ में कैद है !

Related posts

वायरल विडियो : जब मोदी ने राम मंदिर पे की अपने मन की बात

Viral Bharat

ध्रुव राठी… BJP और मोदी को निरंतर कोसने वाला, कांग्रेस के हाथ का खिलौना और विपक्ष का पोषित एजेंट !

Viral Bharat

पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर : पशु धन विकास परियोजना से गद्दी समुदाय की आर्थिक स्थिति सुधरेगी

Viral Bharat