राजनीती, राज्यों से

बहुचर्चित छात्रवृति घोटाले को लेकर सूबे की जय राम सरकार सख्त,सरकार के सख्त रुख और जाँच में आई तेज़ी से घोटालेबाज थर-थर कांपे

Viral Bharat / July 11, 2019

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के नृतत्व में घोटालेबाजों की ख़ैर नहीं। बहुचर्चित छात्रवृति घोटाले को लेकर मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर पहले ही कड़ा रुख इख़्तियार किये हुए हैं। मुख्यमंत्री साफ़ कर चुके हैं कि घोटाला छोटा हो या बड़ा हो घोटालेबाज किसी सूरत में बख्से नहीं जाएंगे। प्रदेश सरकार की सिफारिश पर सीबीआई छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही है। सीबीआई के साथ-साथ अब प्रवर्तन निदेशालय ने भी इस मामले में जांच बैठा दी है। मुख्यमंत्री की बोली बातें आज सच होती नजर आ रही हैं जिस घोटाले पर पहले सुस्त जाँच चल रही थी आज उसी पर मनी लांड्रिंग की जांच शुरू हो चुकी है।

करीब 250 करोड़ के छात्रवृत्ति घोटाले में अब मनी लांड्रिंग की जांच भी शुरू हो गई है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिक्षा विभाग से मामले से संबंधित सारा रिकॉर्ड तलब किया है। कई निजी शिक्षण संस्थानों के काले धन को सफेद करने की आशंका के चलते ईडी ने मामले की जांच शुरू कर दी है।एक बात तो तय है जय राम सरकार खुद मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने तय कर रखा है घोटाले जब भी हुए हों सबकी जाँच करवा कर दोषियों को सजा दिलवाई जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी की राह पर मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर आगे बढ़ रहे हैं ना खाऊंगा ना खाने दूंगा।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उधर उच्च शिक्षा निदेशालय ने ईडी को रिकॉर्ड देने के लिए सीबीआई को पत्र लिख कर अनुमति मांगी है। हिमाचल समेत कई अन्य राज्यों के निजी शिक्षण संस्थानों पर सूबे के एससी/एसटी और ओबीसी वर्ग के हजारों विद्यार्थियों के नाम पर फर्जी एडमिशन दिखाकर छात्रवृत्ति के करोड़ों रुपये हड़पने का आरोप है।ये अपने आप में एक बहुत बड़ा घोटाला है जो अब जैसे जैसे जाँच आगे बढ़ रही है उसकी दूसरी परते सामने आती जा रही हैं।

Image result for JAI RAM THAKUR cbi

करोड़ों की राशि हड़पने वाले निजी शिक्षण संस्थानों ने यह पैसा कैसे ठिकाने लगाया, फर्जी दिखाई गई एडमिशन पर कितना पैसा खर्च किया और शिक्षण संस्थानों के नाम पर लिए गए ऋण का भुगतान किस तरह किया गया? प्रवर्तन निदेशालय इन सवालों के जवाब ढूंढ रहा है। बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले की जांच में जुटी सीबीआई ने मंगलवार को निजी शिक्षण संस्थानों के जब्त रिकॉर्ड की छंटनी करना शुरू कर दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शिमला आफिस पहुंचते ही सीबीआई की सभी टीमों ने रिकॉर्ड की छंटनी का काम शुरू किया। वीरवार को भी छंटनी का काम जारी रहने की संभावना है। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक आने वाले दिनों में कुछ और निजी शिक्षण संस्थानों में भी दबिश दी जाएगी।अब ये तय है की दोषी जल्द ही गिरफ्त में होंगे। अगर जय राम सरकार भी इस घोटाले की जाँच सीबीआई से नहीं करवाती तो शायद आरोपी बच निकलते लेकिन इस समय आरोपी सहमें हुए हैं।