राजनीती, राज्यों से

जिसे संरक्षण देती आई थी कांग्रेस वो भ्रस्ट अधिकारी जयराम सरकार में हुआ निलंबित भ्रस्ट अफसरों को सरकार का साफ़ संकेत बख्शे नहीं जायेंगे

Viral Bharat / September 7, 2019

जयराम सरकार में घोटालेबाजों और भ्रस्ट अधिकारीयों की ख़ैर नहीं। जिस भ्रस्ट सहायक दवा नियंत्रक से सब दवा विक्रेता परेशान रहते थे उस भ्रस्ट रिस्वत खाने वाले अधिकारी की जयराम सरकार ने जाँच के बाद छुट्टी कर दी है। विजलेंस की जाँच के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने ये फैसला लिया है। फार्मा कंपनियों से रिश्वत लेने के आरोप में फंसे सहायक दवा नियंत्रक निशांत सरीन को सरकार ने निलंबित कर दिया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने शुक्रवार को निलंबन के आदेश जारी किए गए हैं।

राज्य सरकार ने दो महीने पहले ही उन्हें बद्दी में तैनात किया था, इससे पहले वह मंडी में सहायक दवा नियंत्रक के पद पर नियुक्त थे। राज्य सरकार को उनके खिलाफ काफी शिकायतें मिली थीं।इसके चलते सरकार ने विजिलेंस को इस मामले की जांच के आदेश दिए थे। दो सप्ताह पूर्व विजिलेंस ने निशांत सरीन के हिमाचल सहित बाहरी राज्यों के सात ठिकानों पर छापेमारी की थी।

निशांत सरीन पर दवा निर्माता कंपनियों से फ्लाइट की टिकटें और महंगे होटलों का किराया बतौर घूस भरवाने का आरोप है। फिलहाल इस मामले में विजिलेंस जांच कर रही है। रेड के दिन से ही सरीन फरार चल रहे हैं। स्थानीय कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी है।

सहायक दवा नियंत्रक नवनीत मरवाह ने ओएसडी स्वास्थ्य सुरक्षा विनियमियम के पद पर ज्वाइनिंग दे दी है। उनका बद्दी से शिमला तबादला किया गया था। लेकिन वह दो सप्ताह से अपनी ज्वाइन नहीं कर रहे थे। बद्दी में रहते हुए सरकार ने उनकी शक्तियां छीन ली गई थी।