राजनीती राज्यों से वायरल

ऊर्जा क्षेत्र में एक दिन में रिकॉर्ड MoU साइन, हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार

हिमाचल प्रदेश के विकास के लिए हिमाचल के युवाओं को प्रदेश में ही रोजगार मिले इस पर जयराम सरकार तेज़ी से कार्य कर रही है। जयराम सरकार में अब निवेशकों ने निवेश के लिए हिमाचल का रुख करना शुरू कर दिया है। 7-8 नवंबर को धर्मशाला में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर मीट से पहले सरकार अलग अलग क्षेत्रों में इन्वेस्टर के साथ एमओयू कर रही है।

इसी कड़ी में आज मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की मौजूदगी में सरकार ने ऊर्जा क्षेत्र का मिनी कॉन्क्लेव का आयोजन किया। इस दौरान सरकार ने ऊर्जा के क्षेत्र में इन्वेस्टर के साथ 26 हजार 812 करोड़ रुपये के दस एमओयू साइन किए। जिनमें 2 एनटीपीसी,1 एनएचपीसी और 7 एमओयू एसजेवीएन के साथ साइन हुए। इसमें 25 हजार 772 करोड़ के एमओयू हाइड्रो पॉवर और 1,040 करोड़ के एमओयू सोलर पॉवर के क्षेत्र में साइन हुए हैं।

Image may contain: 6 people

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हाइड्रो सेक्टर को छोड़कर इन्वेस्टर जा रहे थे लेकिन सरकार ने निर्णय लिया कि इस सेक्टर को आगे बढ़ाने के लिए कुछ फैसले लेने होंगे जो सरकार ने लिए और आज नतीजा सबके सामने है। सरकार ने जो एमओयू साइन किये उससे प्रदेश में 2927 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा और 13,215 लोगों को इन प्रोजेक्ट में रोजगार मिलेगा। प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना ने बताया कि कुछ प्रोजेक्ट जो 15 साल पहले अलॉट किये गए थे। लेकिन उनमें काम नही हो पाया था लेकिन अब एमओयू साइन होने के बाद इन प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो जाएंगे।चिनाव बेसिन में औऱ प्रोजेक्ट को शुरू करने की इन्वेस्टर मांग कर रहे हैं जिस पर सरकार विचार कर रही है। 648 मेगा वाट की बिजली उत्पादन में इस साल में वृद्धि हो जाएगी।

Image may contain: 10 people

हिमाचल प्रदेश देश भर में मोस्ट कन्ज्यूमर फ्रेंडली राज्य है और ऊर्जा प्रदेश की आर्थिकी का मुख्य साधनों में से एक है।प्रदेश सरकार ने हाइड्रो पॉवर पालिसी 2006 में बनाई थी। हाइड्रो पॉवर के दोहन की प्रदेश में 23,500 मेगा वाट की क्षमता है जिसने साढ़े दस हजार मेगा वाट का दोहन कर लिया है और 2300 मेगावाट के प्रोजेक्ट निर्माणाधीन है जबकि साढ़े आठ हजार मेगावाट के प्रोजेक्ट अंडर क्लेरेंस और 1900 मेगा वाट के प्रोजेक्ट अलॉट होने के लिए पाइप लाइन में हैं। ऊर्जा क्षेत्र से हिमाचल प्रदेश को 2018-19 में 1212 करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ जबकि इस वर्ष सितंबर तक 678 करोड़ रुपये का राजस्व मिला है।

वंही, इस दौरान मुख्यमंत्री ने 5 मेगा वाट तक के बिजली प्रोजेक्ट को लगाने के इच्छुक इन्वेस्टर के गाइडलाइंस और हिमऊर्जा के सोलर रूफ टॉप की ग्रिड से कनेक्टिविटी के लिए ऑनलाइन पोर्टल का लॉच भी किया।

Related posts

कर्नाटक कांग्रेस में हो सकता है ऐसा कांड हिल जाएगी दिल्ली मुख्यालय राहुल गांधी की उड़ेगी नींद

Viral Bharat

कार्यक्रम में नेता बोले में कांग्रेस का हूँ लेकिन मुख्यमंत्री जय राम का फैन हूँ ,उनके अच्छे कामों का मैं समर्थन करता हूं फिर..

Viral Bharat

सीएम जयराम बोले,पंचायतों में गड़बड़झाले की अब विजिलेंस करेगी जांच, तीन माह में होगी कार्रवाई जानिए और क्या कहा

Viral Bharat