राजनीती राज्यों से वायरल

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के अधिकारीयों को साफ़ निर्देश निवेश को धरातल पर उतारें

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर प्रदेश में निवेशकों को लाने के लिए काफी मेहनत करते हुए नजर आ रहे हैं। यही वजह है की आज मुख्यमंत्री जी इसमें कामयाब भी हो रहे हैं हजारों करोड़ो का निवेश इस समय हिमाचल में आ चूका है। अब इन्हे धरातल पर लाने के लिए जयराम सरकार कमर कस चुकी है यही वजह है की मुख्यमंत्री जी ने अधिकारीयों के साथ बैठक करके साफ़ निर्देश दिए हैं की जितने एमओयू हुए हैं उन्हें धरातल पर लाने का काम शुरू कर दें। हिमाचल के इतिहास में अगले महीने पहले बार ग्लोबल इन्वेस्टर मीट होने जा रही है जिससे प्रदेश में हजारों करोड़ो का निवेश आएगा खुद प्रधानमंत्री मोदी जी उस इन्वेस्टर मीट में हिस्सा लेने आ रहे हैं जो प्रदेश के लिए गर्व की बात है।

निवेश को धरातल पर उतारने के लिए सीएम जयराम ठाकुर जी ने अधिकारियों को कहा है कि वे उन निवेशकों के साथ व्यक्तिगत तौर पर संपर्क सुनिश्चित करें, जिनके साथ यहां पर एमओयू किए गए हैं या किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस निवेश को धरातल पर उतारना जरूरी है, जिसके लिए अधिकारियों को पहले से ज्यादा मेहनत करनी होगी। बुधवार को यहां इन्वेस्टर मीट को लेकर समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए सीएम ने कहा कि सभी विभागों को समझौता ज्ञापन की प्रगति में तेजी लाने के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपनाना जरूरी है।

उन्होंने बताया कि अभी तक विभिन्न क्षेत्रों में 566 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर सरकार कर चुकी है, जिनमें 81319 करोड़ रुपए के निवेश की क्षमता है और लगभग डेढ़ लाख लोगों को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि अधिकांश समझौता ज्ञापन उद्योग, पर्यटन और आवास क्षेत्रों में हस्ताक्षरित किए गए जो न केवल राज्य के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करेंगे, बल्कि उन्हें स्वरोजगार के उपक्रम को अपनाने के लिए भी प्रोत्साहित करेंगे। जयराम ठाकुर ने सभी विभागों को भावी उद्यमियों की सुविधा के लिए सभी प्रयास करने को कहा, ताकि अधिकतम निवेश आकर्षित किए जा सकें। उन्होंने उद्यमियों को राज्य सरकार द्वारा निवेशकों को दी जा रही सुविधाओं और प्रोत्साहन के बारे में सूचित करने के भी निर्देश दिए।

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि पर्यटन, आवास और उद्योग क्षेत्रों में मुख्यमंत्री के साथ बी 2 जी की बैठक आयोजित की जाएगी, ताकि इन मेगा क्षेत्रों के उद्यमियों के साथ सीधा संवाद हो सके। बैठक में स्थानीय उद्यमियों को आमंत्रित करने और उनकी विदेशी प्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित करने का निर्णय लिया गया, ताकि स्थानीय निवेशक भी लाभान्वित हो सकें। मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया और मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि ग्लोबल इन्वेस्टर मीट की सफलता के लिए सतत प्रयास किए जा रहे हैं।

Related posts

उत्तर प्रदेश के अधिकतर मुसलमान राम मंदिर के पक्ष में – लगा रहे खुद होर्डिंग !

Viral Bharat

पंचायत में भ्रष्टाचार की शिकायतों का 15 दिन में होगा निपटारा, सचिवों के भी भरे जायेंगे इतने पद

Viral Bharat

धर्मशाला में विशाल रैली में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी का कांग्रेस को करारा जवाब,रैली मिला समर्थन देख घबराई कांग्रेस

Viral Bharat