राजनीती राज्यों से वायरल

इन्वेस्टर मीट के अंतिम दिन आज केंद्रीय मंत्री का बड़ा ऐलान,हिमाचल के विकास के लिए बनेगी उच्च स्तरीय टास्क फोर्स CM जयराम की मेहनत हुई सफल

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी के प्रयासों से हिमाचल में इन्वेस्टर्स मीट भी हुई और वो सफल भी हुई। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर जी ने कहा कि प्रधानमंत्री के दूरदर्शी नेतृत्व में राष्ट्र उन्नति कर रहा है और अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में देश ने अपनी छवि बनाई है। उन्होंने कहा कि मोदी जी द्वारा गुजरात में मुख्यमंत्री के रूप में आयोजित वाईब्रेंट गुजरात कार्यक्रम ने हिमाचल को निवेश आकर्षित करने का रास्ता दिखाया है। उन्होंने कहा कि गुजरात में आयोजित इवेंट की सफलता से प्रेरित होकर हिमाचल प्रदेश ने भी राज्य में व्यापक निवेश के लिए सम्मेलन को आयोजित करने का निर्णय लिया।

आज समापन समरोह में केंद्रीय मंत्री पियूष गोयल जी ने भाग लिया और कई अहम बातें हिमाचल को लेकर की उन्होंने कहा केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं को जोड़कर हिमाचल के विकास के लिए उच्च स्तरीय टास्क फोर्स बनेगी। यह टास्क फोर्स तीन माह में बैठक कर प्रदेश के विकास के लिए रोड मैप तैयार करेगी। कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, रेलवे और पर्यटन विकास विभाग के अधिकारियों की यह टास्क फोर्स संयुक्त रूप से काम करेगी।धर्मशाला में राइजिंग हिमाचल इन्वेस्टर मीट के पहाड़ी क्षेत्र में सतत विकास के लिए पहल और नीति के सत्र में बतौर मुख्य वक्ता शामिल हुए केंद्रीय रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं को जोड़कर प्रदेश के विकास की संभावनाएं तलाशी जाएंगी।

उन्होंने कहा कि हिमाचल में रेलवे के विकास के लिए पहले पांच साल में 108 करोड़ रुपये खर्च किए जाते थे, जबकि साल 2014 के बाद इस बजट को तीन गुणा बढ़ाकर अब 1800 करोड़ रुपये सालाना खर्च किए जा रहे हैं। बद्दी में रेलवे लाइन के कार्य में देरी क्यों हो रही है, इसको वह स्वयं देखेंगे।केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि सिरमौर के पावंटा साहिब को रेलवे लाइन से जोड़ने की घोषणा कब हुई है। यह उनके ध्यान में नहीं है। फिर भी वह अधिकारियों से बात करके इसे देखेंगे। यदि ऐसा है, तो इस दिशा में काम किया जाएगा। वहीं, कालका-शिमला रेल का एक घंटा समय कम हुआ है। इसमें एक घंटा और कम करने की योजना बनाई जा रही है।

केंद्रीय रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि साल 2014 में जब उन्हें रेलवे मंत्रालय मिला था, उस समय 1000 ऐसी घोषणाएं थीं, जिन पर धरातल में कुछ भी काम नहीं हुआ था। नई रेलवे लाइन, नई रेल, नए रेलवे स्टेशन बनाने सहित अन्य घोषणाएं थीं, जो पिछले 50 सालों में विभिन्न सरकारों ने की थीं। वर्तमान समय में उन 1000 घोषणाओं को पूरा करने के लिए कम से कम भी 30 लाख रुपये की आवश्यकता है।

हिमाचल के उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के मैदानी क्षेत्र में इंडस्ट्री लगी हैं, लेकिन दुर्गम क्षेत्रों में औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने के लिए सरकार प्रयास कर रही है। इसके लिए प्रदेश सरकार उद्योगपतियों को सुविधाएं और रियायतें दे रही है। वहीं, प्रदेश में औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने के लिए जमीन की कमी रहती थी, इसे दूर करने के लिए सरकार ने लैंड बैंक बनाकर दिया है।

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने पुरानी यादों को ताजा करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को अपना पुराना मित्र बताया। उन्होंने कहा कि वह सीएम जयराम ठाकुर से साल 1989 में पहली बार मिले थे। ऐसे में अब इन्वेस्टर मीट के बहाने अपनी मित्रता के 30 साल सेलिब्रेट कर रहे हैं।

Related posts

Himachal News – कोरोना पर सरकार के आदेशों का पालन नहीं करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई, पुलिस ने जारी की एडवाइजरी

Viral Bharat

मध्यप्रदेश: एक्शन में शिवराज,CAA समर्थन रैली में थपड मारने वाली राजगढ़ की कलेक्टर निवेदिता और एडीएम वर्मा पर उठाया बड़ा कदम

Viral Bharat

जिसे संरक्षण देती आई थी कांग्रेस वो भ्रस्ट अधिकारी जयराम सरकार में हुआ निलंबित भ्रस्ट अफसरों को सरकार का साफ़ संकेत बख्शे नहीं जायेंगे

Viral Bharat