राजनीती, राज्यों से, वायरल

80 साल की बुजुर्ग को डायन बता मुंह पर कालिख पोती वाली घटना पर मुख्यमंत्री के संज्ञान के बाद पुलिस ने दर्ज की 20 के खिलाफ FIR मुख्यमंत्री के साफ़ आदेश सख्त से सख्त करवाई हो

Viral Bharat / November 10, 2019

सरकाघाट के समाहल गांव की 80 वर्षीय वृद्धा राजदेई का शनिवार काे एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ।वायरल होते होते इस वीडियो के बारे में जानकारी मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी को भी लगी.इसके बाद मुख्यमंत्री की तरफ से पुलिस प्रसाशन को साफ़ साफ़ आदेश दिए गए की आरोपियों पर सख्त से सख्त करवाई की जाए। इससे पहले पुलिस का रैवया शर्मनाक रहा पुलिस ने इस मामले में ढील क्यों बरती इसकी भी जांच की जाएगी।

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें की बुजुर्ग महिला साथ बहुत ही गलत घटना हुई है जिसे देख हर कोई हैरान है इसमें कुछ लोगों ने उनके मुंह पर कालिक पोती, घर में से निकालकर घसीटा। गले में जूतों की माला डाली और सिर के बाल भी काट डाले है। डायन कहकर उन्हें बुरी तरह पीटा गया। महिला को पूरे गांव में घुमाया गया। यह घटना 6 नवंबर की है। महिला फिलहाल सदमे में है और उनका दामाद उन्हें अपने साथ हमीरपुर ले गया है।

पीड़िता की बेटी तृप्ता ने आरोप लगाया कि धार्मिक आस्था की आड़ लेकर एक महिला रिश्तेदार उनकी मां को डायन बताकर उन्हें मारना चाहती है, ताकि उनकी जमीन पर कब्जा कर सके क्योंकि उनका डेढ़ दशक से उनके साथ जमीन का विवाद चल रहा है। पीड़िता महिला की दो बेटियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है। पति की मौत हो चुकी है। तृप्ता ने बताया कि पहले भी उनकी मां पर हमले हो चुके हैं।

सीएम ने लिया मामले का संज्ञान

सीएम जयराम ठाकुर के संज्ञान लेने के बाद पुलिस ने पीड़िता की बेटी की शिकायत पर देवता के गुर की बेटी निशु समेत 20 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोशल मीडिया पर फैले इस वीडियो की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय करार दिया है। उन्होंने कहा, देवभूमि में ऐसे कृत्य बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे।

टोने-टोटके और दूसरे देवता की पूजा करने की आड़ में हमला

पीड़िता की बेटी ने कहा कि उनका परिवार नाग देवता की पूजा करता है। जबकि पूरा इलाका माहु नाग देवता की पूजा करता है। माहु देवता के गुर की बेटी निशु के कहने पर ही लोगों ने हमला किया। उसका मानना है कि महिला का परिवार नाग देवता की पूजा करता है। टोने व टोटके भी करते हैं जिस वजह से उसके पिता की मौत हुई थी।

85% साक्षरता दर के साथ हिमाचल देश में चौथे स्थान पर
85% साक्षरता दर के साथ हिमाचल देश में चौथे स्थान पर है। समाहल गांव में भी हर व्यक्ति पढ़ा लिखा है। डॉक्टर-इंजीिनयर इस गांव में हैं। इसके बावजूद इस तरह की घटना को अंजाम देना बड़ा सवाल है क्योंकि इस तरह की घटनाएं अक्सर कम पढ़े लिखे व पिछड़े इलाकों व राज्यों में ही सुनने में आती है।

असली वजह करोड़ों रुपए की जमीन

महिला की बेटी ने बताया कि देवता का ताे बहाना है। हमले की असली वजह करोड़ों रुपए की उनकी जमीन है जिसपर गांववाले व उनक रिश्तेदार आंखें गढ़ाए बैठे हैं। वे उनकी मां को मारकर कब्जा करना चाहते हैं क्योंकि उनके कोई बेटा नहीं है।

NEWS SOURCE DAINIK BHASKAR