राजनीती

कार्टूनिंग के नाम फूहड़ता का प्रदर्शन करते हलके बुद्धिजीवी !

Viral Bharat / November 11, 2019

क्या मिस्त्री का बेटा मुख्यमंत्री नहीं बन सकता है?
क्या गरीब के बच्चों को आगे आने का हक नहीं है?

अभी हाल ही में हिमाचल में ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट का आयोजन किया गया जिसमे हिमाचल प्रदेश के विभिन्न सेक्टर्स में इन्वेस्ट करने के लिए देश विदेश से कई बड़ी कम्पनिया और निवेशक एकत्रित हुए. साथ ही भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के साथ दश के गणमान्य लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज़ करवाई. कई मुद्दों पर विचार हुआ, कैसे युवाओं को स्वाबलंबी बनाया जाये, कैसे हिमाचल में टूरिज्म, हैंडीक्राफ्ट्स, ऊर्जा, एजुकेशन, स्वास्थ्य इत्यादि सेक्टर्स में रोज़गार के साधन उपलब्ध करवाए जाएँ. बाहर से आये निवशकों के साथ हिमाचल के उद्यमियों ने भी इसमें काफी रूचि दिखाई. कुल मिला के एक बड़ी सकारत्मक पहल हुई जिसका लाभ भविष्य में हिमाचल को मिलना तय है !

पर देवभूमि में कुछ स्वयंभू बुद्धिजीवी ऐसे भी हैं जिनको किसी चीज़ में कोई सकारत्मक पहलु नज़र नहीं आता है, और अपने प्रदेश के साधारण परिवार से संबंध रखने वाले मुख्यमंत्री जय राम जी को ही उपहास का पात्र बना डाला, क्यूंकि उनकी पृष्टभूमि एक साधारण परिवार से है जिधर उनके पिता जी ने मेहनत से जीवन यापन करके अपने परिवार का पालन पोषण किया और बच्चों को आत्मनिर्भर होने के लिए प्रेरित किया.

मुख्यमंत्री जय राम की पृष्टभूमि पे भद्दा और हल्का तंज कस्ते हुए ये कलंकार महोदय यहीं नहीं रुके, इसने मुख्यमंत्री जय राम जी को एक विवादित कार्टून में कसाई की तरह प्रस्तुत कर दिया जो हिमाचली लोगों के हाथ काट के कुत्तों को फेंक रहा है…और ताजुब्ब की बात ये है उन कुत्त्तों को ये कलंकार व्यापारी और मीडिया की तरह प्रस्तुत कर रहा है….यानी की व्यापारी और मीडिया कुत्ते के तौर पे प्रस्तुत हुए ! बेहद हल्की सोच का शर्मनाक प्र्दर्श्न ! न जाने अपने जीवन की कौन सी फ्रसट्रेशन ये कलंकार इस तरह बेहद हल्के स्तर से निकलता है !

युवाओं के लिए रोज़गार और हिमाचल को प्रगतीशील बनाने का लक्ष्य रखना इस कलंकार को रास नहीं आया, लगता है शायद कांग्रेस के समय में मिलने वाली मौज काफी समय से बंद होने के कारण कलंकार के दिमाग पे आघात लगा है, कोई संदेश पहुंचा दे की मुख्यमंत्री जी रहत कोष से निवेदन करके इसका बहुत बढ़िया मानसिक उपचार करवाया जायेगा, वो भी निशुल्क !

मैं कलंकार को एक ही सलाह देना चाहता हूं कि मानसिक परेशानियों का उपचार संभव है, भाई अपना उपचार अवश्य करवा लें, कृपया करके गरीबी और हिमाचल का मज़ाक न उड़ाएं !