राजनीती राज्यों से वायरल

सीएम कार्यालय की सख्त तल्खी के बाद जागी अफसरशाही,बसंतपुर वृद्धाश्रम पहुंचे बुजुर्ग पति-पत्नी, दोनों के खिले चेहरे

अफसरशाही पर जब मुख्यमंत्री करवाई करेंगे तो फिर ये बोलेंगे हम पर करवाई कर दी। आखिर ये अफसरशाही मुख्यमंत्री कार्यालय के संज्ञान लेने पर ही क्यों जागती है ? क्या इन अधिकारी अफसरों की खुद की कोई जिम्मेदारी नहीं है ? अफसरों अधिकारीयों को अपनी जिम्मेद्दारी समझनी होगी अगली बार मुख्यमंत्री बोलेंगे नहीं सीधी करवाई करेंगे। मुख्यमंत्री जी की तरफ से पहले ही चेतावनी दी जा चुकी है की शिकायतों को हल्के में न लें और जरूरतमंदों की मदद करें।

ठंड में सड़कों पर रातें गुजारने को मजबूर बुजुर्ग दंपती आखिर शिमला के बसंतपुर वृद्धाश्रम पंहुच गए। करीब 80 साल के ये पति-पत्नी रामपुर में ठंड में सड़कों पर रातें बिताने को मजबूर थे। इस बीच सीएम कार्यालय की तल्खी के बाद ही अफसरशाही जागी। मंगलवार को आनन-फानन में अधिकारी रामपुर पहुंचे और इन दोनों को बसंतपुर वृद्धाश्रम लाया गया। अपने लिए ठिकाना पाकर इनके चेहरे खिल गए। पति-पत्नी दोनों को ही लोग धंगी नाम से पुकारते हैं।

इस दंपति को काफी समय से बसंतपुर भेजने के आदेश दिए गए थे लेकिन उन फाइलों को दबाए रखने पर भी अब सवाल खड़ा हो रहा है.ऐसे गैर जिम्मेदार अफसरों पर सख्त से सख्त करवाई होनी चाहिए तभी ये सुधर सकते हैं. सोमवार को तहसील कल्याण अधिकारी रामपुर इन्हें लाने रामपुर स्थित जलींड गांव गए। वहां से इन्हें शिमला के बसंतपुर वृद्धाश्रम लाया गया। इस वृद्धाश्रम में रखने से पहले इनका मेडिकल टेस्ट करवाया गया।

आपकी जानकारी के लिए हम आपको यहां बता दें की चौपाल क्षेत्र के एक सामाजिक कार्यकर्ता विशाल चौहान ने यह मामला अमर उजाला के ध्यान में लाया। फिर सीएम हेल्पलाइन पर भी फोन करके इस बुजुर्ग दंपती को वृद्धाश्रम नहीं लाने की शिकायत की गयी थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री कार्यालय इसके बीच में आया और आज ये वृद्ध दोनों आश्रम में हैं।

इसके बाद समाज कल्याण निदेशालय और बोर्ड के अधिकारी अपना-अपना पल्ला झाड़ते हुए एकदम सक्रिय हो गए। मंगलवार को दोपहर बाद इस बुजुर्ग दंपती को बसंतपुर लाया गया। यहां स्वयंसेवी संस्था उमंग फाउंडेशन के अध्यक्ष अजय श्रीवास्तव ने भी इनसे भेंट की और इनके रहन-सहन की व्यवस्था को देखा। तहसील कल्याण अधिकारी रामपुर शशि ठाकुर ने कहा कि यह बुजुर्ग दंपती अनाथाश्रम पहुंचने के बाद खुश है।

Related posts

गुणवत्ता से ना हो समझौता ना हो पाए कोई धांधली,एक करोड़ से ज्यादा राशि के प्रोजेक्टों पर उठाया मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बड़ा कदम

Viral Bharat

Himachal News – कोरोना के चलते,हिमाचल में गैर बोर्ड छात्र बिना परीक्षा परिणाम घोषित अगली कक्षा में प्रमोट होंगे लाखों विद्यार्थी

Viral Bharat

दीपिका की मजबूरी था …विजय मालया के बेटे के साथ समय बिताना ? सच्चाई क्या है ?

Viral Bharat