राजनीती राज्यों से वायरल

बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई जारी रखने के लिए गरीबी आ रही थी आड़े,सीएम जयराम के इस कदम ने बदली जिंदगी

इस खबर को पढ़कर विरोधी भी बोल उठेंगे वाह जयराम जी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने फिर ऐसा काम किया है जिसकी चर्चा प्रिंट मीडिया से लेकर सोशल मीडिया पर जोरों से चल रही है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की इसी कार्यशैली की जनता कायल है। ये पहला मौका नहीं जब इस तरह का कदम मुख्यमंत्री ने उठाया हो इससे पहले भी मुख्यमंत्री कई जरूरतमंदों की मदद कर चुके हैं।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हिमकैप्स नर्सिंग कालेज बढे़डा की छात्रा को पढ़ाई जारी रखने के लिए 50 हजार की फीस दी है।विरोधी पक्ष के लोग भी मुख्यमंत्री के इस कदम की तारीफ करने में पीछे नहीं रहे हैं। संस्थान में बीएससी नर्सिंग करने वाली प्रशिक्षु लवली कुमारी के लिए सीएम जयराम ठाकुर जी मसीहा बन कर आए है।आपको हम यहां बता दें की इस छात्रा की माली हालत ठीक नहीं थी और पिता का साया सिर से उठ चुका है और मां मेहनत मजदूरी कर बेटी की पढ़ाई करवा रही है।

छात्रा बीपीएल परिवार से ताल्लुक रखती है।सीएम जब पिछले महीने हिमकैप्स में दौरे के दौरान आए थे, तो छात्रा लवली ने अपनी परिवारिक स्थिति को उनके समक्ष रखा था। छात्रा का कहना था कि वह पढ़ना तो चाहती है, लेकिन आर्थिक स्थिति आड़े आ रही है। फीस तक चुकाने में असमर्थ है। छात्रा के रूंधे गले से की गई बात सुनकर सीएम जयराम ठाकुर भी काफी दुखी हुई और उन्होंने उसी समय संस्थान को फीस का ब्यौरा देने को कहा।

संस्थान की ओर से सारी जानकारी सरकार को भेजी गई था। इस मामले को ‘दिव्य हिमाचल’ ने भी प्रमुखता से उठाया था। अब मुख्यमंत्री ने छात्रा को पढ़ाई जारी रखने के लिए 50 हजार रुपए की राशि फीस के लिए जारी की है। इसके लिए संस्थान के चेयरमैन देसराज राणा ने सीएम का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि संस्थान भी ऐसे प्रशिक्षुओं को हर संभव सहायता कर रहा है, ताकि आर्थिक स्थिति पढ़ाई में आड़े न आए।

Related posts

GOOD NEWS- PGI चण्डीगढ़ में हिमकेयर योजना के तहत उपचार की सुविधा उपलब्ध

Viral Bharat

VIDEO : पहले पाकिस्तान जाकर मोदी को हटाने की भीख मांगते थे,अब खुलेआम मोदी को जिन्दा जलाने का समय आ गया ऐसा बयान कोंग्रेसी नेता दे रहे हैं

Viral Bharat

उत्तर प्रदेश में BJP का पलड़ा भारी होता देख, मुसलमानो ने लगाए मोदी मोदी के नारे, देखिये विडियो !

Viral Bharat