राजनीती, राज्यों से, वायरल

जयराम सरकार विकास कार्यों की गुणवत्ता को लेकर हुई सख्त,विकास कार्यो में हुई अब जरा भी गड़बड़ी तो बच नहीं पाओगे

Viral Bharat / December 4, 2019
cm jairam के लिए इमेज परिणाम

प्रदेश की जयराम सरकार अब विकास कार्यों की गुणवत्ता को लेकर काफी सख्त नजर आ रही है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी पहले ही इस पर सख्त रुख ले चुके हैं। सड़को की दशा सुधरे इस पर भी जयराम सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। गुणवत्ता को चेक करने के लिए एक पूरी टीम है जो नई सड़कों और उन सड़कों की जांच करती है जिन पर नई टारिंग की जा रही हो। अगर कोई भी गड़बड़ी पाई जाए तो उसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को दी जाती है.

लेकिन अब पंचायतों में विकास कार्यों में गड़बड़ी पाए जाने पर पंचायत प्रधान के साथ सचिव, जेई और तकनीकी सहायक भी सस्पेंड होंगे। ये बात अब मंत्री वीरेंद्र कंवर जी बोल चुके है अभी तक पंचायतों में गडबड़ी पाए जाने के अधिकतर मामलों में पंचायत प्रधान पर ही कार्रवाई होती रही है। अब विकास कार्यों के लिए पंचायत सचिव, जेई और तकनीकी सहायक की भी जिम्मेदारी तय कर दी है।

virender kanwar के लिए इमेज परिणाम

विधानसभा में पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र्र सिंह कंवर ने कहा कि विधायक और सांसद निधि का पैसा पंचायतों के खाते में पहुंचने के एक माह के भीतर विकास कार्य शुरू करना होगा जिसके लिए फंड दिया है। यदि विकास कार्य को शुरू नहीं किया तो ब्लॉक से पंचायत को नोटिस जारी किया जाएगा। नोटिस के 15 दिन के भीतर भी यदि कार्य शुरू नहीं किया जाएगा तो पंचायती राज विभाग उस विकास कार्य के लिए टेंडर कर देगा। वीरेंद्र कंवर वीरवार को विधानसभा में भाजपा के विधायक बलबीर सिंह द्वारा प्रस्तुत किए हिम ऊर्जा लगाएगी लाइटें अब प्रदेश की पंचायतें अपने स्तर पर स्ट्रीट लाइटें नहीं लगा पाएंगी।

मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि स्ट्रीट लाइटें लगाने को लेकर हिम ऊर्जा के साथ एमओयू हुआ है। हिम ऊर्जा पंचायतों में लाइटें लगाने के लिए टेंडर प्रक्रिया करेगा। पंचायतों में लगने वाली लाइटों की पांच साल की वारंटी होगी। इस अवधि तक इसकी पूरी जिम्मेदारी कंपनी या ठेकेदार की होगी।15 दिन में होगी भ्रष्टाचार की शिकायतों की जांच।मंत्री वीरेंद्र कंवर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सदन में पंचायतों से जुड़ी जितनी भी शिकायतें आई हैं उनकी 15 दिन में जांच कर कार्रवाई की जाए।

आगे बात करते हुए उन्होंने कहा कि पंचायतों में मैटीरियल की गुणवत्ता और दाम को लेकर भी उचित कदम उठाए हैं। निर्माण सामग्री को लेकर लोनिवि का पैटर्न अपनाया है। इसके अलावा पंचायतों को बीएसआइ मार्का इंटर लॉकिंग टाइल लगाने के निर्देश दिए गए हैं। यदि कोई पंचायत इसके अलावा किसी और मार्का की घटिया टाइल लगाती है तो पंचायत को नोटिस जारी किया जाएगा और उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगा।