राजनीती राज्यों से

शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में जयराम सरकार ने 2 साल में किया ऐसा काम,देश भर में रहा अव्वल

जयराम सरकार ने अपने दो साल के कार्यकाल में बहुत बड़ी बड़ी उपलब्धियां हासिल कर ली हैं। जयराम सरकार को इस महीने दो साल पुरे होंगे लेकिन इस इतने कम वक़्त में जितनी योजनाएं सरकार ने शुरू की हैं शायद ही इससे पहले किसी ने शुरू की हों। आपको जानकर ख़ुशी होगी कि प्रदेश सरकार की मेहनत का ही नतीजा है जो अब स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में हिमाचल प्रदेश दूसरे सभी छोटे बड़े राज्यों से आगे रहा है। सभी क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्यों में हिमाचल प्रदेश दूसरे स्थान पर है।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर जी ने प्रदेश सरकार की नीतियों एवं कार्यक्रमों के कार्यान्वयन में पूर्ण सहयोग देने के लिए प्रदेश की जनता का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि यह केवल प्रदेश की जनता के सहयोग से ही संभव हुआ है कि प्रतिष्ठित पत्रिका इण्डिया टुडे के सर्वेक्षण में हिमाचल प्रदेश को बड़े राज्यों की श्रेणी में शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रथम आंका गया है। इसके अतिरिक्त प्रदेश को सभी क्षेत्रों में सबसे अच्छे प्रदर्शन के लिए दूसरा स्थान मिला है।आप सभी प्रदेशवासियों को जानकर ख़ुशी होगी कि कानून और व्यवस्था के मामले में प्रदेश पिछले वर्ष 11वें स्थान पर था और इस वर्ष चैथा स्थान प्राप्त कर बड़े राज्यों में अपनी रैंकिंग में सुधार किया है।

स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्रों में हिमाचल प्रदेश के प्रयासों की सराहना करते हुए इस बड़े सर्वे में कहा गया है कि राज्य में साक्षरता और स्वास्थ्य देखभाल कार्यक्रम हाल के वर्षों में उत्साहजनक रहे हैं। शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्रों की गुणवत्ता में प्रदेश के प्रयासों से इस पहाड़ी राज्य ने सभी बाधाओं को दूर करने में सफलता पाई है।अपने दो साल के कार्यकाल में ही जयराम सरकार ने ये बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर ली है। इससे पता चलता है की किस तरह प्रदेश तरक्की की राह पर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है।

jairam thakur के लिए इमेज परिणाम

राज्य सरकार ने हिमकेयर योजना शुरू की है, जिसके तहत सभी पात्र परिवारों को पंजीकृत अस्पतालों के माध्यम से पांच लाख रुपए तक के निःशुल्क उपचार की सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। अब तक 43000 मरीजों के इलाज पर 42 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। प्रदेश में आयुष्मान भारत योजना प्रभावी ढंग से कार्यान्वित की गई है और अब तक इस योजना के तहत 35000 मरीजों को निःशुल्क उपचार उपलब्ध करवाने पर 33 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। प्रदेश में मुख्यमंत्री चिकित्सा कोष की स्थापना भी की है, जिसके तहत 192 लाभार्थियों को चार करोड़ रुपए से अधिक वित्तीय सहायता प्रदान की गई है।

Related posts

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 63 करोड़ के 220 के.वी. विद्युत उप-केंद्र नेहरियां का लोकार्पण किया चिन्तपूर्णी विधानसभा क्षेत्र में 170.30 करोड़ की सौगात

Viral Bharat

जानिए क्यों मुख्यमंत्री ने चुटकी लेते हुए कहा कांग्रेसी आए दिन उनके दिल्ली दौरे पर कई तरह के अपशब्दों का प्रयोग करते रहे लेकिन …

Viral Bharat

कैबिनेटः हिमाचल में पटवारियों की कमी होगी दूर, खुला नौकरी का पिटारा भरे जायेंगे इतने ज्यादा पद

Viral Bharat