राजनीती, राज्यों से, वायरल

Congress को रास नहीं आ रहे प्रदेश के लिए किये जा रहे विकास के प्रयास,मुख्यमंत्री बोले इन्वेस्टर्स मीट पर हर तरह की चर्चा के लिए तैयार

Viral Bharat / December 10, 2019

पुरे प्रदेश की जनता बहुत अच्छे से जानती है कि इस समय कांग्रेस सरकार के पास जयराम सरकार को लेकर कोई मुद्दा नहीं है। यही वजह है कि आज प्रदेश की जयराम सरकार द्वारा प्रदेश में विकास के लिए उठाये जा रहे बड़े कदमों का विरोध कांग्रेस कर रही है। आज से पहले जो निवेशक दूसरे राज्यों का रुख करते थे आज वो सभी निवेशक हमारे प्रदेश का रुख कर रहे हैं जो सिर्फ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा किये गए प्रयासों से ही संभव हो पाया है। इन्वेस्टर्स मीट पर कांग्रेस ने बार बार सवाल उठाकर दिखा दिया है उन्हें कभी प्रदेश के विकास से मतलब ही नहीं था।

प्रदेश में सफल इन्वेस्टर्स मीट का आयोजन करना वो भी सिर्फ दो साल के अंदर ये जयराम सरकार की बहुत बड़ी उपलब्धि है जिस वजह से आज प्रदेश में 93 हजार करोड़ के निवेश प्राप्त हुए हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने विपक्ष के हंगामे की कड़ी निंदा करते हुए इसे विपक्ष का गैर जिम्मेदाराना व्यवहार बताया। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि शीत सत्र का पहला दिन है,लेकिन जिस तरह से विपक्ष का रवैया रहा है,उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि विपक्ष सदन के प्रति कितना जिम्मेदार है।

उन्होंने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। सरकार ने इस आयोजन को लेकर ईमानदारी और पारदर्शिता से काम किया है। हर सरकार अपने विजन के साथ काम करती है। प्रदेश के विकास के लिए ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट सही कदम लगा, इसलिए सरकार ने इसका आयोजन करवाया और यह पूरी तरह सफल भी रहा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि सदन में कांग्रेस के सदस्यों की भाषा जिस तरह रहती है, वह काफी निदंनीय है। कांग्रेस सरकारों के समय में भी इस तरह के आयोजन करवाने की कोशिश की गई, लेकिन उनके विजन और इच्छाशक्ति नहीं होने के कारण वह इसमें सफल नहीं हो पाए। अब भाजपा सरकार ने इसे सफल स्वरूप दिया, तो अब इन्हें परेशानी हो रही है। जहां तक इन्वेस्टर्स मीट के खर्चे की बात है, तो देश के अन्य राज्यों की इन्वेस्टर्स मीट के मुकाबले हिमाचल सरकार ने सबसे कम खर्चा किया है।

खुद असफल प्रयास कर गुमराह की जनता

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस विधायकों पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में जब कांग्रेस की सरकार थी, तो उन्होंने असफल प्रयास कर जनता को गुमराह किया, लेकिन अब सफल प्रयास शुरू हुए हैं, तो कांग्रेसी नेता चिल्ला रहे हैं। स्वयं जब सफल नहीं हो पाए, तो अब दूसरों के प्रयास में भी विपक्ष को खोट नजर आने लगा है।