राजनीती राज्यों से वायरल

वाह “जनमंच” जो समस्या यूँ हल ना हुई वो समस्या जनमंच में चुटकियों से हल हुई,बोल उठी जनता सीएम साहब लाजवाब

आज की तारीख में जनमंच बन चूका है आम जनता का सबसे ताकतवर हथियार। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी शुरू से ही एक बात बार-बार बोलते रहे हैं कि वो प्रदेश की जनता को परेशानियों में नहीं देख सकते जितना जल्दी हो जनता की समस्याओं का निवारण होना चाहिए।यही सोच के साथ मुख्यमंत्री जी जनमंच को लेकर आये थे ताकि इसके माध्यम से आम जनता की समस्याओं का समाधान हो और आज जो उन्होंने सोचा था वो हो भी रहा है। जनमंच के बाद अब मुख्यमंत्री हेल्पलाइन को लॉन्च करके मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने आम जनता को एक और ताकतवर हथियार दे दिया है जिसके तहत घर बैठे बैठे समस्याओं का समाधान सिर्फ एक फोन पर हो रहा है।

आज जिस घटना का जिक्र हम यहां कर रहे हैं वो कोई मजाक नहीं बल्कि हकीकत है.करसोग के खड़ूना गांव के डोला राम के चेहरे पर मंद मंद मुस्कान और उसी मुस्कान के साथ वो जनमंच में बोल उठते हैं साहब -ये जनमंच तो प्रदेश की आम जनता के लिए बहुत बड़ा और ताकतवर हथियार निकला। हमने इस जनमंच के माध्यम से अपने गांव के लिए बस सेवा बहाली की मांग रखी थी, अभी चार दिन भी नहीं बीते थे कि एचआरटीसी की बस घर के आगे से हॉर्न मारते हुए निकली।इससे आप खुद सोच सकतें है किस तरह से आम जनता के लिए प्रदेश की जयराम सरकार कार्य कर रही है।

डोला राम की बात यहीं खतम नहीं होती है जनमंच की वजह से जो विस्वास डोला राम के अंदर भर चूका था उसी विस्वास के साथ वो आगे अपनी बात को जारी रखते हुए बताते हैं कि अभी हाल ही में 11 अगस्त को करसोग के सेरी बंगलो में हुए जनमंच में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज के सामने गांव वालों ने ये समस्या रखी थी और 15 अगस्त से शिमला से खडूना के लिए बस सेवा शुरू भी हो गई । ये हमारे लिए कोई छोटी बात नहीं है बहुत ही बड़ी बात है जयराम सरकार मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी का हम आज धन्यवाद करते हैं।

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें की बात यही खत्म नहीं होती है उसी गांव के ही हरिसरण बात को आगे बढ़ाते हुए बताते हैं कि वर्ष 2004 से गांव में सड़क है, पर यहां के लिए कोई नियमित बस सेवा नहीं थी। हालांकि साल 2011 और फिर 2017 में गांव के लिए बस चली तो जरूर पर उद्घाटन के 15-20 दिनों बाद बन्द हो गई । अब जनमंच से इस समस्या का पक्का समाधान हुआ है और खड़ूना के अलावा साथ लगते गांवों को भी सहुलियत हुई है।

ये अकेले एक गावों की बात नहीं है मंडी जिला में नवंबर महीने तक हुए 17 जनमंच कार्यक्रमों में विभिन्न समस्याएं लेकर आए एवं समाधान प्राप्त करने वाले अनेक लोगों ने एक स्वर में यह बातें कहीं। जून 2018 से आरंभ हुए जनमंच कार्यक्रम के तहत मंडी जिले में नवंबर 2019 तक 17 कार्यक्रम हुए हैं। इनमें शिकायतों व मांगों से जुड़े 7104 मामले आए, जिनमें से 6937 समस्याओं का निपटारा किया जा चुका है, बजट प्रावधान की मांगों से जुड़े करीब 167 मामलों पर काम चल रहा है।

Related posts

Himachal News – हिमाचल से बाहर फंसे लोग ऐसे करें हिमाचल आने के लिए अप्लाई,जल्द होगी वापसी

Viral Bharat

ब्रेकिंग – लॉकडाउन 4.0 का ऐलान, देशभर में 31 मई तक बढ़ाई गई तालाबंदी

Viral Bharat

अब देहरादून में कश्‍मीरी छात्र गिरफ्तार, पुलवामा हमले का समर्थन करने का है आरोप

Viral Bharat