राजनीती राज्यों से वायरल

सीएम जयराम बोले गगल एयरपोर्ट पर बड़ा विमान उतार कर रहेंगे, मंडी एयरपोर्ट का दो हफ्ते में एग्रीमेट,पर्यटन को गांव तक पहुंचाएंगे रोजगार लाएंगे

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने एक बार फिर कहा है कि प्रदेश में पयर्टन को विकसित करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा टूरिस्ट आएं, इसके लिए सरकार ने नई टूरिज्म पालिसी तैयार की है। सरकार पर्यटन को गांव की ओर ले जाकर रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ने की दिशा में काम कर रही है। राज्य में चार नए स्थान विकसित किए जाएंगे।

jairam thakur के लिए इमेज परिणाम

उन्होंने कहा कि कनेक्टिविटी की दृष्टि से सरकार कांगड़ा एयरपोर्ट पर बड़ा प्लेन उतारकर ही छोड़ेगी। इसके बाद मंडी एयरपोर्ट का एग्रीमेंट भी दो सप्ताह के भीतर हो जाएगा। साथ ही उड़ान-थ्री के तहत भी चंडीगढ़, धर्मशाला, शिमला व कुल्लू सहित अन्य प्रमुख स्थानों को जोड़ा जाएगा। उन्होंने माना कि अभी तक टूरिस्ट डेस्टिनेशन को बढ़ावा देने के लिए जिस स्तर पर काम होना चाहिए था, वह नहीं हुआ है। पूर्व की सरकार ने टूरिज्म पालिसी बनाई, लेकिन उसमें न विजन था, न ही कोई नीति।

गगल एयरपोर्ट के लिए इमेज परिणाम

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने आगे कहा कि नई मंजिलें, नई राहें योजना के तहत पहली बार टूरिज्म को विकसित करने के लिए वर्ष 2018 में 50 करोड़ के बजट का प्रावधान किया गया। वर्ष 2019-20 के लिए भी इसमें इतनी ही धनराशि का प्रावधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पुरानी टूरिस्ट डेस्टिनेशन के साथ ही नई डेस्टिनेशन को विकसित करना सरकार की प्राथमिकता है। आने वाले समय में एशियन विकास बैंक के 1892 करोड़ के प्रोजेक्ट के तहत प्रदेश के पयर्टन स्थलों को विकसित करने की योजना है। इसके अलावा सरकार ने अपने स्तर पर भी नई डेस्टिनेशन, जिनमें चांशल घाटी, बीड़-बिलिंग, जंजैहली व पौंग डैम सहित अन्य क्षेत्रों को विकसित करने के लिए बजट का प्रावधान किया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल को प्रकृति न बहुत सुंदर बनाया है। सरकार का प्रयास है कि इस पालिसी के जरिए हिमाचल को अंतरराष्ट्रीय टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनाया जाए, जिससे प्रदेश में रोजगार के अवसर बढ़ सकें।

वाटर स्पोर्ट्स के लिए इतना बजट

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीड़-बिलिंग और जंजैहली के लिए 15-15 करोड़, कौल और पौंग डैम में वाटर स्पोर्ट्स और अन्य सुविधाओं के लिए छह-छह करेड़, लारजी डैम के लिए 3.72 करोड़ का बजट रखा है।

धार्मिक पर्यटन पर काम

स्वदेश दर्शन के 87 करोड़ और धार्मिक सर्किट के लिए 100 करोड़ का प्रावधान किया गया है। चिंतपूर्णी मंदिर के स्वरूप सहित अन्य सुविधाओं के लिए 45 करोड़ की डीपीआर केंद्र को भेजी गई है। प्रदेश में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए होम स्टे योजना के तहत कमरों की सख्यां तीन से बढ़ाकर चार की गई है।

news source दिव्य हिमाचल

Related posts

जयराम सरकार में नशे पर एक बार फिर करारा वार,चरस तस्करी के आरोपियों की 90 लाख रुपये की संपत्तियां जब्त

Viral Bharat

कांग्रेस के पूर्व विधायक बंबर ठाकुर पर आत्महत्या के लिए उकसाने पर मामला दर्ज, खुदकुशी से पहले युवक ने लगाया था आरोप

Viral Bharat

सोशल मीडिया पे वायरल हुआ किचन डांस – देखें विडियो

Viral Bharat