राजनीती राज्यों से वायरल

जयराम सरकार का बड़ा फैसला राज्य के 11 जिलों में स्थापित करेगी गौ अभयारण्य/गौसदन

प्रदेश की जयराम सरकार 11 जिलों में गाय अभ्यारण्य/गौसदन स्थापित करेगी जिनमें प्राकृतिक वातावरण में बेसहारा पशुओं को आश्रय और भूमि संसाधनों की उपलब्धता के अनुसार चरने के लिए सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। लाहौल स्पीति जिला में बेसहारा पशु न होने के कारण गौ सदन नहीं स्थापित किया जाएगा।मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी प्रदेश में हर तरह के विकास के लिए कार्य कर रहे हैं जहां एक तरह आम जनता के लिए अच्छी योजनाओं को शुरू किया है तो अब बेसहारा गौमाता को भी आसरा मिलेगा।

प्रारंभिक चरण में इन गाय अभ्यारण्यों/गौसदन की स्थापना जिला सिरमौर के कोटला बड़ोग, जिला सोलन के हांडा कुंडी, जिला हमीरपुर के खेरी, जिला ऊना के थाना कलां खास, जिला कांगड़ा के इंदौरा-डमटाल, कुंदन-जीपी-बडसर-पालमपुर, कंगेहन-जयसिंहपुर, लुथान (ज्वालामुखी) और जिला बिलासपुर के बरोटा-डबवाल, तहसील श्री नैना देवी जी तथा धार-तातोह तहसील सदर में की जा रही है।

कांगड़ा जिले में अधिकतम चार गौ अभ्यारण्य/गौसदन स्थापित किए जाएंगे जिसके लिए इंदौरा (डमटाल), कुंदन (पालमपुर), कंगेहन (जयसिंहपुर) और लुथान (ज्वालामुखी) को चयनित किया गया है।

आपकी जानकारी के लिए हम यहां बता दें कि मंदिर ट्रस्ट द्वारा संचालित गौसदन बैन अटेरियां की क्षमता को मौजूदा 250 से बढ़ाकर 1000 करने के लिए 77,90,000 रुपए की लागत से बनने वाली चारदीवारी का निर्माण कार्य प्रगति पर है। जिला लाहौल स्पीति को छोड़कर प्रत्येक जिले में कम से कम एक गाय अभ्यारण्य स्थापित किया जाएगा, जबकि कांगड़ा जैसे बड़े जिले में चार गाय अभ्यारण्य स्थापित किए जाएंगे, जहां आवारा पशुओं की संख्या अधिक है।

वीरेंद्र कंवर के लिए इमेज परिणाम

पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर जी ने कहा कि जिला सिरमौर के कोटला बड़ोग अभयारण्य के लिए 1.52 करोड़ रुपये, जिला सोलन के हांडा कुंडी अभ्यारण्य के लिए 2.97 करोड़ रुपये, जिला ऊना के थाना कलां खास अभ्यारण्य के लिए 1.69 करोड़ रुपये, जिला हमीरपुर में खेरी सुजानपुर अभ्यारण्य के लिए 2.56 करोड़ रुपये और जिला चंबा के मंझीर अभ्यारण्य के लिए 1.66 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान आवश्यक बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए किया गया है।

उन्होंने कहा कि उक्त सभी पाँच गाय अभ्यारण्यों/बड़े गौसदनों का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है और वर्ष 2020 तक पूरा हो जाएगा और इन सभी गौ अभ्यारण्यों/बड़े गौसदनों को वर्ष 2020 में कार्यशील कर दिया जाएगा।सरकार ने इन अभ्यारण्यों के निर्माण के लिए नोडल विभागों के रूप में लोक निर्माण विभाग, ग्रामीण विकास, एचपीएसआईडीसी, हाउसिंग बोर्ड आदि बुनियादी ढांचा विकास में लगे विभिन्न सरकारी विभागों को अधिसूचित किया है, जो संबंधित जिले में विभाग के पास लंबित कार्य भार के आधार पर है।वर्तमान में राज्य में बेसहारा पशुओं की आबादी 27,352 है, जबकि 13,337 मवेशियों को राज्य के मौजूदा गोसदनों और गौशालाओं में पाला जा रहा है।

Related posts

मुख्यमंत्री हेल्पलाइन की सफलता से कुछ लोगों की दुकानें हुई बंद तो रची जाने लगी साजिशें लेकिन तय करेगी खुद जनता।

Viral Bharat

आंकड़े जिन्हे देख चौंक जाएंगे खुद आप पार्टी समर्थक वादों के नाम पर कुछ नहीं हुआ पूरा,मुफ्त स्कीमों से हुआ दिल्ली का बुरा हाल, राजकोषीय घाटा 55 गुना बढ़ा, 1750 करोड़ के घाटे में डीटीसी

Viral Bharat

कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को श्रद्धांजलि देना भूल जामुन और आम खाने वाली कांग्रेस को जनता कभी माफ़ नहीं करेगी

Viral Bharat