राजनीती राज्यों से वायरल

आबकारी नीति से हल होगी बेसहारा सड़कों पर घूम रही गाय और बैलों की समस्या मिलेगा आशियाना

सरकार की नई आबकारी नीति का एक सबसे बड़ा लाभ सीधे तौर पर बेसहारा सड़कों पर छोड़ी गयी गौमाता को मिलेगा। अब आप सब भी सोचेंगे आखिर कैसे आबकारी नीति से बेसहारा गौमाता को सहारा मिलेगा ? तो यहाँ हम आपको बता दें कि प्रदेश की जयराम सरकार बेसहारा पशुओं को लेकर काफी गंभीर है क्योंकि सड़कों पर आवारा घूम रहे पशुओं से आम जनता और किसान भी परेशान है।कई बार इन सड़कों पर बेसहारा घूम रहे पशुओं की वजह से दुर्घटनाएं तक हुई हैं यही नहीं किसानों की फसलें ये बेसहारा गाय,बैल बर्वाद कर देते हैं जिसकी वजह से किसानों को भी काफी नुकसान झेलना पड़ता है।

इन सभी समस्याओं को जड़ से खत्म करने के लिए जयराम सरकार 11 जिलों में गाय अभ्यारण्य/गौसदन स्थापित करेगी जिनमें प्राकृतिक वातावरण में बेसहारा पशुओं को आश्रय और भूमि संसाधनों की उपलब्धता के अनुसार चरने के लिए सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।इससे बेसहारा गाय बैल सड़कों पर नहीं दिखेंगे उन्हें आसरा भी मिलेगा और किसानों की फसलें बर्वाद भी नहीं होंगी। करोड़ों रुपए सरकार इस पर खर्च कर रही है और सरकार ने इसके लिए एक बहुत ही अच्छी योजना को शुरू किया है जिसके तहत शराब की हर एक बिकने वाली बोतल पर एक-एक रुपए गौसेवा के लिए किये जा रहे कार्य के लिए लिया जा रहा है। अब इस आबकारी नीति से शराब बिक्री में पारदर्शिता आएगी शराब तस्करी रुकेगी और प्रदेश में जो शराब के ठेके चल रहे हैं वहीं से शराब की बिक्री होगी। इस कारण हर एक बिकने वाली बोतल से सीधा एक-एक रुपए गौसेवा के लिए शुरू की गयी इस योजना में जायेगा।

ये भी पढ़े – जानिए नई आबकारी नीति से कैसे शराब माफिया पर लगेगी लगाम

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि प्रारंभिक चरण में इन गाय अभ्यारण्यों/गौसदन की स्थापना जिला सिरमौर के कोटला बड़ोग, जिला सोलन के हांडा कुंडी, जिला हमीरपुर के खेरी, जिला ऊना के थाना कलां खास, जिला कांगड़ा के इंदौरा-डमटाल, कुंदन-जीपी-बडसर-पालमपुर, कंगेहन-जयसिंहपुर, लुथान (ज्वालामुखी) और जिला बिलासपुर के बरोटा-डबवाल, तहसील श्री नैना देवी जी तथा धार-तातोह तहसील सदर में की जा रही है।

कांगड़ा जिले में अधिकतम चार गौ अभ्यारण्य/गौसदन स्थापित किए जाएंगे जिसके लिए इंदौरा (डमटाल), कुंदन (पालमपुर), कंगेहन (जयसिंहपुर) और लुथान (ज्वालामुखी) को चयनित किया गया है।सिरमौर के कोटला बड़ोग अभयारण्य के लिए 1.52 करोड़ रुपये, जिला सोलन के हांडा कुंडी अभ्यारण्य के लिए 2.97 करोड़ रुपये, जिला ऊना के थाना कलां खास अभ्यारण्य के लिए 1.69 करोड़ रुपये, जिला हमीरपुर में खेरी सुजानपुर अभ्यारण्य के लिए 2.56 करोड़ रुपये और जिला चंबा के मंझीर अभ्यारण्य के लिए 1.66 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान आवश्यक बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए किया गया है।

ये भी पढ़े – जयराम सरकार ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में कुछ अहम कदम उठाए है और अब हिमाचल में अब 56 मेडिकल टेस्ट फ्री,केंद्र सरकार की ये योजना सबसे पहले हिमाचल को

उक्त सभी पाँच गाय अभ्यारण्यों/बड़े गौसदनों का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है और वर्ष 2020 तक पूरा हो जाएगा और इन सभी गौ अभ्यारण्यों/बड़े गौसदनों को वर्ष 2020 में कार्यशील कर दिया जाएगा।

Related posts

पाकिस्तान के दुर्गा और हनुमान मंदिर में मुसलमान करते हैं आरती

Viral Bharat

अब आया दंगाई पुलिस के हाथ,आप नेता ताहिर हुसैन की आत्मसमर्पण याचिका खारिज, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Viral Bharat

Himachal News – कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में सब एक,सर्वदलीय बैठक में अहम फैसले

Viral Bharat