राजनीती वायरल

Breaking News – दिल्ली पुलिस को दंगाईयों को देखते ही गोली मारने के आदेश,मोदी सरकार का बड़ा फैसला

उत्तर-पूर्वी दिल्ली जिले में पिछले तीन दिनों से जारी हिंसा में अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है और 170 से ज्यादा लोग घायल हैं. इनमें 56 पुलिसकर्मी बताए जा रहे हैं. मरने वालों में एक पुलिसकर्मी भी है. दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को दंगाग्रस्त इलाकों में फ्लैग मार्च किया लेकिन इसके बाद भी उपद्रवी नहीं माने और उन्होंने कई इलाकों में आगजनी की और पथराव किया. दिल्ली पुलिस ने रात होते हाते इलाकों में गश्त तेज कर दी और लोगों को घरों रहने की अपील की.

दिल्ली पुलिस के एसीपी ने यमुना विहार के नूर ए इलाही चौक पर लाउडस्पीकर से ऐलान किया, ‘आप लोग अनावश्यक रूप से सड़कों पर ना आए. दंगाइयों को देखते ही गोली मारने का आदेश है. आप लोग घरों में रहें. सड़क पर आकर पथराव ना करें और मजमा इकट्ठा ना करें’

एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली का नया स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर नियुक्त किया गया. एसएन श्रीवास्तव फिलहाल सीआरपीएफ में एडीजी के पद पर तैनात हैं. एसएन श्रीवास्तव सीआरपीएफ में तैनाती से पहले दिल्ली पुलिस में कई महत्वपूर्ण पदों पर यह तैनात हो चुके हैं.

बता दें कि उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में अभी भी हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में मंगलवार (25 फरवरी) सुबह भी हिंसा व पत्थरबाजी (Delhi Violence) की कई छिटपुट वारदातें होती रही. पुलिस ने जानकारी दी है कि दिल्ली में सोमवार से हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत 10 लोगों की मौत हो गई है. जबकि 150 से ज्यादा लोग घायल हैं. उत्तर पूर्वी दिल्ली में एक महीने (24 फरवरी से 24 मार्च) के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है.

मौजपुर, बाबरपुर, जाफराबाद, गोकुलपुरी, बृजपुरी आदि इलाकों में पुलिस व रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की तैनाती की गई है. हालांकि इन क्षेत्रों के कई अंदरूनी इलाकों में आपसी भिड़ंत व एक दूसरे पर पत्थरबाजी की वारदातें अभी भी हो रही हैं. मंगलवार (25 फरवरी) सुबह मौजपुर के समीप ब्रह्मपुरी इलाके में उपद्रवी भीड़ ने एक बार फिर पथराव किया. छोटे-छोटे गुटों में बंटे उपद्रवियों के ये समूह पुलिस व कुछ अन्य लोगों पर पथराव करते दिखे. हिंसा की छिटपुट घटनाएं जाफराबाद, मौजपुर और बाबरपुर के अंदरूनी हिस्सों में भी सामने आई हैं.

दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहा, ‘कुछ समाचार एजेंसियों ने खबर चलाई कि दिल्ली पुलिस ने कहा कि उसे गृह मंत्रालय से पर्याप्त बल नहीं मिला है, यह जानकारी गलत है. दिल्ली पुलिस इससे पूरी तरह इनकार करती है. गृह मंत्रालय लगातार हमारा समर्थन कर रहा है और हमारे पास पर्याप्त बल हैं. उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा, उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी. पर्याप्त पुलिस बल, सीएपीएफ और वरिष्ठ अधिकारी उत्तर पूर्व जिले में तैनात हैं. जिले के कुछ इलाकों में धारा 144 लागू.’

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा, ‘हिंसाग्रस्त इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है. हम लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं. लोग अफवाहों पर ध्यान न दें. मैं नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के लोगों से अपील करता हूं कि वह कानून अपने हाथों में ना लें. हम स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन की भी मदद ले रहे हैं. इस हिंसा में अब तक 56 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. जिनमें से एक हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल शहीद हो गए हैं. जबकि डीसीपी शाहदरा को सिर में गंभीर चोट आई है. अभी तक इस हिंसा में 130 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं.’

Related posts

क्या ऐसा करना ठीक है …?

Viral Bharat

UP में मुस्लिम महिलाओं ने इस्लाम को नाकारा, दिया हिंदुत्व का साथ

Viral Bharat

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा प्रदेश में अभी तक किसी व्यक्ति में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि नही,कोरोना को लेकर हुई अहम बैठक

Viral Bharat