राजनीती राज्यों से

Himachal News-कर्ज को लेकर बार-बार सवाल उठाने वाली कांग्रेस अपना अतीत भूल जाती है जिसने विरासत में प्रदेश को सबसे ज्यादा कर्ज दिया

कोई भी राज्य ऐसा नहीं है जो सरकार चलाने के लिए कर्ज ना लेता हो। जितनी भी सरकारें हैं वो सभी कर्ज लेती हैं और उसी कर्ज से लिए पैसे का इस्तमाल प्रदेश के विकास कार्यों में होता है। जो कर्मचारियों को महगाई भत्ता टीए-डीए मिलता है वो भी कर्ज के पैसे से पूरा किया जाता है। फिर उसी कर्ज की एक तय सीमा में वापिस भी किया जाता है। आज हिमाचल में जयराम सरकार है उसे भी कर्ज लेना पड़ रहा है। लेकिन हिमाचल कांग्रेस हर बार जिस तरह से कर्ज को लेकर बीजेपी पर हमला करती है वो खुद को हंसी का पात्र बनाती है।

शायद आप सभी नहीं जानते होंगे की जयराम सरकार को कर्ज विरासत में मिला। पूर्व की कांग्रेस सरकार की मेहरबानी इतनी हुई है कि आज हिमाचल कर्ज में डूब गया है। वर्ष 2018-19 में भारत सरकार से कर्ज लेने की जितनी अनुमति थी, प्रदेश की जयराम सरकार ने उससे 1617 करोड़ रुपए कम कर्ज उठाया।

सरकार को 31 मार्च तक 6442 करोड़ रुपए के ऋण वापस करने वांछित हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कर्ज की विस्तृत जानकारी रखते हुए कहा कि वर्ष 2007 से 2012 तक तत्कालीन धूमल सरकार ने प्रदेश के लिए 7465 करोड़ रुपए का ऋण उठाया था । इसके बाद वर्ष, 2013 से अंत तक पांच साल में कांग्रेस सरकार ने 19195 करोड़ रुपए का ऋण उठाकर राज्य को बड़े कर्ज के बोझ तले दबा दिया। यह कर्जा तीन गुणा था। आप खुद सोचिये अब किसने प्रदेश को कर्ज में डुबाने का कार्य किया अभी जिस जयराम सरकार ने जिसे दो साल हुए या कांग्रेस ने जिसने 3 गुणा कर्ज लिया।

जयराम ठाकुर ने केंद्र सरकार से हिमाचल को मिली वित्तीय सहायता का भी सदन में जिक्र किया, जिन्होंने बताया कि पूर्व कांग्रेस सरकार के समय में केंद्र सरकार से 2016-17 व 2017- 18 में अनुदान के रूप में 26258 करोड़ रुपए की राशि मिली। वहीं, वर्तमान सरकार में 2018-19 व 2019-20 में 30524 करोड़ रुपए का अनुदान प्राप्त हुआ है, जिससे साफ है कि केंद्र सरकार हिमाचल की किस तरह से मदद कर रही है। उन्होंने कहा कि संसाधन कैसे जुटाए जाएंगे, पैसा कहां से आएगा इसकी चिंता सरकार को करनी है, न कि विपक्ष को। उन्होंने ये भी कहा कि 31 मार्च तक केंद्र सरकार से अभी अनुदान के रूप में और पैसा आना शेष है।

जयराम सरकार ने प्रदेश में एक से बढ़कर एक योजना को शुरू किया है जिसमें करोड़ों खर्च हुए हैं। करोड़ो खर्च करके हिमकेयर योजना से जयराम सरकार ने 60 हजार से ज्यादा लोगों का फ्री इलाज करवाया। क्या कांग्रेस के समय ऐसी कोई योजना थी ? गृहणी सुविधा योजना से 2 लाख 75 हजार गैस सिलिंडर फ्री में देकर प्रदेश को धुआँ मुक्त किया जिसमें करोड़ों खर्च हुए लेकिन सिर्फ जनता के लिए। क्या कांग्रेस के समय ऐसी कोई योजना थी ? सहारा योजना से जयराम सरकार हर महीने 2 हजार उन मरीजों को दे रही है जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं और बिस्तर पर हैं। क्या कांग्रेस के समय ऐसी कोई योजना थी ? किडनी ट्रांस्प्लांट कई मरीजों का फ्री में जयराम सरकार ने करवाया। क्या कांग्रेस के समय ऐसा कुछ हुआ ? आज IGMC में करोड़ों की मशीने जयराम सरकार ने लगवाई हैं कर्ज अगर जयराम सरकार ने लिया है तो जनता और प्रदेश के लिए। जबकि कांग्रेस ने जो तीन गुणा कर्ज लिया था आखिर उसका इस्तमाल कहा हुआ

Related posts

हिमाचल के लिए गर्व के पल ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नृतत्व में इतने हजार करोड़ के एमओयू साइन

Viral Bharat

Cabinet Decisions- कैबिनेट ने 1840 करोड़ की नई आबकारी नीति पर लगाई मोहर, भरे जाएंगे यह पद

Viral Bharat

गांधियों को है सिखों से नफरत – और पंजाब में माँग रहे सिखों से वोट

Viral Bharat