राजनीती राज्यों से

बड़ी खबर – कोरोना वायरस की दवा बनाने में जुटा हिमाचल का ये एक संस्थान

हिमालय जैव संपदा प्रौद्योगिकी (आईएचबीटी) संस्थान पालमपुर ने कोरोना वायरस से बचने की दवा बनाने पर काम शुरू कर दिया है। वैज्ञानिकों ने शुरुआती तौर पर इसकी दवा की बनाने की संभावना जताई है। आने वाले दिनों में सब ठीक रहता है तो आईएचबीटी दो-तीन माह में कोरोना से निजात पाने की दवा तैयार कर सकता है।

आईएचबीटी ने शुरू में इसके लिए कुछ मॉलिक्यूल्स (कई प्रकार के पदार्थ) की खोज भी की है। सूत्रों की मानें तो आईएचबीटी को इसकी दवा तैयार करने में कुछ लैब को लेकर समस्या आ सकती है, लेकिन संस्थान का मानना है कि कोरोना की दवा तैयार करने के लिए आने वाली लैब की समस्या को लेकर यह काम जम्मू या दिल्ली में भी किया जा सकता है। कोरोना से लड़ने के लिए आईएचबीटी बिना केमिकल के हैंड सैनिटाइजर तैयार कर चुका है। संस्थान में अब अगला काम कोरोना की दवा बनाने पर शुरू हो गया है।

आईएचबीटी इससे पहले भी कैंसर और मधुमेह जैसी गंभीर बीमारियों को लेकर बनने वाली दवाइयों में अपना योग दे चुका है, जबकि जोड़ों का दर्द और मलेरिया की दवा पर भी शोध चल रहे हैं। उधर, संस्थान के निदेशक डॉ. संजय कुमार ने कहा कि कोरोना की दवा को लेकर फिलहाल संस्थान ने ऐसे मॉलिक्यूल्स की खोज की है, जो कोरोना की दवाई में प्रभावशाली हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले दो-तीन माह में संस्थान दवा बनाने में सफल हो सकता है।

Related posts

स्वास्थ्य मंत्री :- राज्य में कोरोना वायरस से निपटने के लिए किए जा रहे हर संभव प्रयास,इससे बचाव और नियंत्रण संबंधित आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये गए

Viral Bharat

उत्तर प्रदेश में BJP का पलड़ा भारी होता देख, मुसलमानो ने लगाए मोदी मोदी के नारे, देखिये विडियो !

Viral Bharat

ना कांग्रेस को विकास पसंद है ना कांग्रेसी विकास होता देख सकते हैं ?रिलायंस जियो और बिजली विभाग में हुए इस करार में क्या गलत है फैसला खबर पढ़कर खुद करें

Viral Bharat