राजनीती

Breaking – WHO की कोरोना को लेकर अमेरिका को सीधी चेतावनी,लेकिन ट्रंप का बचकाना हरकत पड सकती है विश्व शक्ति अमेरिका पर भारी

एक तरफ जहाँ WHO की तरफ से भारत की मोदी सरकार की जमकर तारीफ की जा रही है कोरोना की इस लड़ी में तो दूसरी और उनका अमेरिका पर एक ऐसा बयान सामने आया है जिसके बहुत मायने हैं। आज कोरोना की वजह से कई छोटे बड़े देश इससे जूंझ रहे हैं लाखों कोरोना वायरस से पीड़ित हैं तो दूसरी तरफ हजारों की संख्यां में इससे मौतें हो चुकी हैं। पर बात करें भारत की तो मोदी सरकार के कड़े निर्णयों ने भारत में कोरोना के प्रकोप को कम करने में धीरे-धीरे सफलता हासिल करना शुरू कर दिया है। 21 दिन का लॉक डाउन बहुत ही बड़ा निर्णय है जिसका अगर जनता पालन करती है तो आसानी से कोरोना को हराया जा सकता है।

MODI के लिए इमेज नतीजे

ये भी पढ़े – बड़ी खबर – कोरोना वायरस की दवा बनाने में जुटा हिमाचल का ये एक संस्थान

दूसरी तरफ एक दिन में ही अमेरिका में 10 हजार से ज्यादा कोरोना पीड़ित सामने आये हैं। इसके बाद भी अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप अपनी बचकाना हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति ने साफ़ कर दिया है कि कोरोना को लेकर कभी भी देश को बंद नहीं करेंगे इस वजह से अमेरिका की जनता में भी काफी गुस्सा नजर आया है। कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया में हड़कंप मचा हुआ है. इसी बीच वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने चेतावनी दी है कि कोरोना संक्रमण का अगला केंद्र अमेरिका हो सकता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने मंगलवार को कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका में COVID-19 मामलों की बढ़ती संख्या को देख कर कह सकते हैं कि यह देश कोरोनोवायरस महामारी का नया केंद्र बन सकता है.

मार्गरेट हैरिस के लिए इमेज नतीजे

ये भी पढ़े – WHO की भारत को लेकर बहुत बड़ी टिप्पणी कोरोना का भविष्य भारत पर निर्भर क्यों कहा जाने ?

डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता ने मंगलवार को जिनेवा में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “यूरोप अभी भी महामारी का केंद्र है, लेकिन अमेरिका में लगातार बढ़ रहे हैं.” उन्होंने आगे कहा,” पिछले शनिवार तक, दुनिया भर में 75 प्रतिशत नए संक्रमण यूरोप से थे वहीं अमेरिका से 15 प्रतिशत थे.”

जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन ने मंगलवार को बताया कि संयुक्त राज्य अमेरिका में कोरोनोवायरस से मरने वालों की संख्या 600 से अधिक हो गई है, संक्रमण के 50,000 से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है.

महामारी घोषित कोरोना वायरस से दुनिया का सबसे मजबूत देश माने जाने वाले अमेरिका की भी हालत खराब होती दिख रही है. यहां मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. हालांकि राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना वायरस की वजह से देश में लागू बंदी में ढील देने के फैसले का मंगलवार को बचाव किया. साथ ही उन्होंने चेतावनी दी कि बंदी के कदम से देश बर्बाद हो सकता है. फॉक्स न्यूज पर ट्रम्प ने कहा, ‘बहुत से लोग मुझसे सहमत होंगे. हमारा देश… बंदी के लिए नहीं बना है. आप बंद कर देश को बर्बाद कर सकते हैं. ‘’

ये भी पढ़े – एक TRUE LEADER की तरह सच बोले पीएम मोदी,21 दिन नहीं संभले तो 21 साल पिछड़ जाएगा देश

ये एक सचाई है की बंद से अर्धव्यवस्था पटरी से नीचे आ सकती है लेकिन अपने लोगों की जान बचाने के लिए भारत जैसे निर्णय अमेरिका को लेने ही होंगे। अगर अमेरिका भारत जैसे निर्णय नहीं लेता है तो ये बोलना बेमानी नहीं होगा की आने वाला वक़्त कोरोना की वजह से पुरे अमेरिका पर भारी पड़ने वाला है। दूसरी तरफ भारत में मोदी सरकार के लॉक डाउन के निर्णय ने दिखा दिया है कि सरकार कोरोना के खिलाफ कितनी गंभीर है।

Related posts

कोरोना महामारी के बीच प्रदेश में युवाओं ने बखूबी किया काम, सोलन-देहरा की वर्चुअल रैली में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दी शाबाशी

Viral Bharat

हिमाचल की सेहत को सौ करोड़,मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की मेहनत से मोदी सरकार ने खोला पिटारा

Viral Bharat

मुख्यमंत्री हेल्पलाईन पर काॅल करते ही हो गया समस्या का समाधान टोल फ्री 1100 पर धड़ाधड़ शिकायतें हो रही दर्ज,लोगों का विश्वास हुआ मजबूत

Viral Bharat