राजनीती

Breaking – चला योगी का हंटर,अश्लील हरकतें करने वाले,लॉकडाउन में पुलिसकर्मियों पर हमला करने वाले जाहिलों में मचा योगी के आदेश से हड़कंप

गाजियाबाद में महिला डॉक्टर और नर्स स्टाफ के साथ जमात के मुस्लिम लोगों द्वारा अस्पताल में की गई अश्लील हरकत पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा संज्ञान लिया है।सीएम योगी ने गाजियाबाद में तबलीगी जमात के लोगों के द्वारा स्वास्थकर्मी से बदसलूकी किए जाने की घटना में कड़ी कार्रवाई के आदेश भी दिए हैं. इन सबके खिलाफ अब रासुका लगाने की तैयरी है। गाजियाबाद में जिन लोगों ने ये हरकत की है. सीएम योगी ने निर्देश दिए हैं कि ऐसी प्रवृत्ति के लोगों के साथ पूरी सख़्ती हो और उन्हें कानून का पालन कराना सिखाओ. साथ ही मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इंदौर जैसी घटना यूपी में कहीं नहीं दिखनी चाहिए, इसके लिए कानूनन जो भी कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी हो उसे कीजिए.

दरअसल गाजियाबाद के एक अस्पताल में तबलीगी जमात के लोगों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. लेकिन उनकी हरकतें सामान्य नहीं बताई जा रही हैं. जमाती मरीज स्टाफ नर्स के सामने अश्लील गाने सुनते हैं और गंदे-गंदे इशारे करते रहते हैं. इतना ही नहीं डॉक्टरों और नर्सों से वो लोग बीड़ी और सिगरेट की मांग भी कर रहे हैं.

खुलासा – हदें पार कर रहे तबलीगी जमात के कोरोना संदिग्‍ध,आया एक और ऐसा सच सामने जिसने हिलाकर रख दिया पुरे देश को

गाजियाबाद में जिला सरकारी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) ने घंटाघर कोतवाली में इस बारे में सूचना दी है. एमएमजी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने पत्र लिखकर शिकायत की कि आइसोलेशन वार्ड में रखे गए कोरोना वायरस के संभावित मरीज जो तबलीगी जमात से ताल्लुक रखते हैं वो वार्ड में बिना कपड़ों के घूमते रहते हैं

इतना ही नहीं, मध्य प्रदेश के इंदौर में स्क्रीनिंग के लिए गए डॉक्टरों और नर्सों पर कुछ लोगों ने पथराव किया था. 4 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार करते हुए शिवराज सरकार ने NSA लगाने के आदेश दिए थे. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी साफ किया कि इंदौर जैसी घटना अगर होती है तो दोषियों पर एनएसए लगेगा.

कोरोना वायरस से पूरे देश में खौफ का माहौल है। वहीं यूपी की योगी सरकार ने अब लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त रुख अपनाने की तैयारी कर रही है। उत्तर प्रदेश सरकार ने एक आदेश जारी किया है जिसके तहत अब लॉकडाउन के दौरान पुलिसकर्मियों पर हमला करने वालों के खिलाफ नेशनल सिक्योरिटी एक्ट (एनएसए) के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

साथ ही जिन मुस्लिम जमातियों द्वारा अश्लील हरकतें की गई थी उनके खिलाफ भी रासुका कानून के तहत अब करवाई की जाएगी जिसके आदेश योगी आदित्यनाथ ने दे दिए है। इन आदेशों के बाद से ही जमातियों में हड़कंप मचा हुआ है।

इससे पहले गुरुवार को ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि इस आपदा की स्थिति से बाहर निकलने के लिए लॉकडाउन को शत-प्रतिशत सफल बनाजाना होगा। सीएम ने कहा था, “इसके लिए आवश्यक है कि प्रत्येक नागरिक संयम और संकल्प बनाए रखे।” जबकि उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया, “लॉकडाउन के दौरान अन्तरजनपदीय, अन्तरराज्यीय और अन्तरराष्ट्रीय सीमाओं को पूर्णतः सील किया गया है। इन सीमाओं का उल्लंघन न होने पाए। इसके लिए प्रभावी गश्ती सुनिश्चित की जाए।”

इस फैसले को लेने की पीछे की वजह यह है कि लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालने करवाने गई पुलिस टीम लगातार हमले हो रहे हैं। मुजफ्फरनगर, सहारनपुर और अलीगढ़ जिले में पुलिसकर्मियों पर हमले हो चुके हैं। बताया जाता है कि हमले में महिलाएं भी शामिल रही हैं। इसी के तहत सूबे में गुरुवार को 177 एफआईआर दर्ज की गईं।

दूसरी ओर योगी सरकार ने लॉकडाउन का फायदा उठाकर जमाखोरी और कालाबाजारी करने के मामलों में 72 एफआईआर भी दर्ज की गई हैं। लॉकडाउन तोड़ने वाले वाहनों से 3.67 करोड़ रुपए का जुर्माना वसूला गया इससे पहले प्रदेश में 5263 बैरियर लगाकर 8.81 लाख वाहनों की चेकिंग कर 1.81 लाख वाहनों के चालान हुए और 13927 वाहन सीज किए गए।

क्या है राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA)

राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम-1980, देश की सुरक्षा के लिए सरकार को अधिक शक्ति देने से संबंधित एक कानून है। यह कानून केंद्र और राज्य सरकार को किसी भी संदिग्ध नागरिक को हिरासत में लेने की शक्ति देता है।

Related posts

जनजातीय क्षेत्र भरमौर में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दी करोड़ो की सौगात झूम उठे लोग जयराम सरकार में हर क्षेत्र का विकास

Viral Bharat

हिमाचल सरकार के प्रयासो से बाहरी राज्यों में फंसे 1.40 लाख लोगों की घर वापसी हुई सुनिश्चत

Viral Bharat

साबधान – आपदा प्रबंधन अधिनियम की धाराओं का उल्लंघन करने वालों को कानून के तहत किया जाएगा दंडित

Viral Bharat