राजनीती राज्यों से

Himachal News – कोरोना को लेकर चल रही फर्जी खबरों पर लगाम लगाने के लिए CM जयराम की अच्छी पहल, जानिए किस तरह की जाती है फर्जी खबरों की पहचान ?

आज पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने कहर मचाया हुआ है इन सबके बीच भारत भी अछूता नहीं है। भारत में भी कोरोना वायरस का डर लोगों में इस समय बना हुआ है। इन सबके बीच जो दुखद बात सामने आई है वो ये कि अभी भी कुछ लोग अपनी जिम्मेदारी को समझ नहीं पा रहे हैं और कोरोना वायरस से जुड़े कई वीडियो, फोटो तथा गलत आंकड़े व्हाट्सऐप, फेसबुक के जरिये पेश किए जा रहे। मीडिया के कुछ घराने न्यूज़ पोर्टल भी अपनी टीआरपी, विज्ञापन तथा सोशल मीडिया में अपने फॉलोवर व लोकप्रियता बढ़ाने के उद्देश्य से झूठी खबरों का प्रचार कर रहे है।

इन सभी झूठी खबरों पर लगाम लगाने के लिए अब प्रदेश की जयराम सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए एक पोर्टल बना कर अच्छी पहल की है। अब जो कोरोना से जुड़ी या अन्य कोई फेक न्यूज़ पोस्ट करेगा उसकी डिटेल सरकार द्वारा बनाये गए फेक न्यूज़ रोकने वाले पोर्टल पर उपलोड की जाएगी तथा कानून के अनुसार फेक न्यूज़ परोसने वालों पर कानूनी करवाई अमल में लाई जाएगी। आम जनता अब अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए इन झूठी खबरों को फैलाने वालों पर खुद आगे आकर करवाई करवा सकती है। जी हाँ अब आप सभी फेक न्यूज़ की जानकारी http://fakenews.hp.gov.in पर देख सकतें है कि किसने , कब, और कहां फेक न्यूज़ पोस्ट की है! साथ ही आप सरकार द्वारा दिए गए व्हाट्सएप्प नंबर 9816323469 पर भी ये जानकारी दे सकते हैं। जो भी फेक न्यूज़ की जानकारी सरकार को देगा उसकी पहचान गुप्त रखी जाएगी।

No photo description available.

जानिए आप कैसे कर सकते हैं सोशल मीडिया,प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में फेक न्यूज़ की पहचान ?

1- क्या है उस खबर का स्रोत : जब भी कोई खबर कोरोना से सबंधित आपके पास आए तो यह जानने का प्रयास करें कि यह जानकारी कहां से आ रही है। यानी इसे किस अखबार, वेबसाइट, टीवी चैनल या संस्था ने जारी किया है।इससे आपको अंदाजा हो जायेगा की खबर में कितनी सचाई है।

2- सिर्फ खबर की हेडलाइन पढ़ना काफी नहीं : आज कल न्यूज़ पोर्टल पर ट्रेफिक लाने के लिए सनसनीखेज हैडलाइन देने का चलन बन चूका है सिर्फ हेडलाइन पढ़कर खबर का अंदाजा न लगाएं। हेडलाइन पढ़ने के बाद भी उस पूरी खबर को ध्यान से पढ़कर समझें।

3- लेखक की विश्वसनीयता : खबर किसने लिखी है या किसने दी है, उसकी विश्वसनीयता की पूरी जांच पड़ताल करें।

4- खबर किस हवाले से : हर खबर जो हम पढ़ते हैं उसका कोई ना कोई सोर्स होता है कि वो किसी हवाले से दी गयी
है। खबर जिस हवाले से दी गई है, उसके बारे में जरूर जानें।

5- प्रकाशन की तरीख देखें : यह जरूर देखें की यह सूचना कब प्रकाशित की गई है। क्योंकि कई बार समय बीतने और फैसला बदलने के साथ चीजें प्रचलन से बाहर हो जाती हैं।

6- कहीं मजाक तो नहीं : कई बार किसी मजाक को ही खबर की तरह पेश किया जाता है। उसे पढ़कर समझने की कोशिश करें यह मजाक तो नहीं।

7- खुद की निष्पक्षता जांचें : किसी भी सूचना से आपको ऐसा लगे कि आपका निर्णय प्रभावित हो रहा है या आपकी सोच बदल रही है तो उस पर ध्यान से सोचें।

8- जानकारों की राय लें : ऊपर की सारी चीजें ठीक लगें तब भी आप एक्सपर्ट से उस सूचना के बारे में जरूर चर्चा करें।

कोरोना से जुड़े सही आंकड़े आप सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर पा सकते हैं – https://www.mohfw.gov.in/

Related posts

IGMC में अब आयुष्मान /हिमकेयर के तहत भी हो सकेगा किडनी ट्रांसप्लांट, प्रथम चरण में आर्थिक रूप से कमजोर 10 मरीजों का होगा निशुल्क उपचार

Viral Bharat

देश भर के किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड को लेकर मोदी सरकार की बड़ी राहत,प्रदेश के किसानों को भी मिलेगा लाभ

Viral Bharat

वायरल : मुसीबत में कांग्रेस, बड़े कांग्रेसी नेताओं के बेटे नोट बदलवाने के चक्कर में CCTV फुटेज में !

Viral Bharat