राजनीती राज्यों से

राजकीय संस्कृत शिक्षक परिषद ने व्यक्त किया मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का आभार,वाराणसी से 23 छात्रों की हुई हिमाचल वापसी

हिमाचल प्रदेश के लिए गर्व की बात है कि एक ऐसा मुख्यमंत्री प्रदेश का नेतृत्व कर रहा है,जो जमीन से और आम जनता से जुड़ा हुआ है। इस कोरोना महामारी के चलते मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर खुद वीडियो संदेश के माध्यम से जनता का हौसला अफजाई करते हुए नजर आते रहते हैं,कोरोना वीरों से बात करके उनके मनोबल को ऊँचा करने का काम भी मुख्यमंत्री करते हुए नजर आ चुके हैं।

प्रदेश को कोरोना मुक्त करने के लिए सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। इसके साथ प्रदेश के उदार मुख्यमंत्री प्रदेश से बाहर फंसे छात्रों, तीर्थयात्रियों व आम जनमानस के लिए भी चिंतित हैं और उन्हें वापिस लाने का प्रयास कर रहे हैं। क्योंकि मुख्यमंत्री जी का कथन है कि- आखिर वे भी तो हिमाचल के निवासी हैं। मुख्यमंत्री छात्रों के लिए बहुत चिंतित हैं और उन्हें लाने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं ।

यह बात हिमाचल राजकीय संस्कृत शिक्षक परिषद के प्रदेशाध्यक्ष मनोज शैल ने कहीं ! उन्होंने कहा कि हिमाचल के 23 छात्र वाराणसी में फंसे थे और सरकार से हिमाचल वापिस लाने के लिए निवेदन कर रहे थे । उनके पास वहां खाने के लिए व किराये आदि के लिए भी पैसे नहीं थे । जैसे ही यह बात मुख्यमंत्री तक पहुंची उन्होंने तुरंत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी से बात की और छात्रों की सहायता का निवेदन किया । इसी के साथ माननीय मुख्यमंत्री जी ने उत्तर प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर व छात्रों की सूची देकर उत्तर प्रदेश परिवहन की विशेष बस के माध्यम से परवाणु तक लाने का निवेदन किया और स्वयं वाराणसी के जिला मेजिस्ट्रेट से इस संदर्भ में बात कर छात्रों को हिमाचल लाने की व्यवस्था करवाई।

हिमाचल राजकीय संस्कृत शिक्षक परिषद के प्रदेशाध्यक्ष डॉ मनोज शैल,महासचिव अमित शर्मा, कोषाध्यक्ष श्री सोहनलाल, एवं समस्त कार्यकारिणी ने इस कार्य के लिए हिमाचल के माननीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी एवं उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी का व इस कार्य में लगे सभी अधिकारियों आई टी सैल के पदाधिकारियों का आभार प्रकट किया है प्रदेशाध्यक्ष डॉ मनोज शैल ने कहा कि 4 अप्रैल को प्रदेश से उन छात्रों की सूची उत्तर प्रदेश सरकार को भेजी गई और 5 अप्रैल को ही छात्रों को हिमाचल लाने की व्यवस्था हो गई। प्रदेश सरकार ने सभी छात्रों को लाने का जो व्यय है वह स्वयं उत्तर प्रदेश सरकार को दिया है । इससे यह मुख्यमंत्री जी की उदारता व करुणा को दर्शाता है क्योंकि मुख्यमंत्री जी छात्र जीवन की कठिनाईयों से भली-भांति परिचित हैं। वाराणसी से आने वाले छात्रों बिलासपुर के पबन, हरीश, वीरेन्द्र,सोलन के संदीप, अक्षय,विक्रम, सुनील, नैनादेवी के अमित, शिमला के अखिल,मदन,

अंशुल, राजेश आदि ने भी कहा कि हम 23 छात्र यहां अत्यंत विकट परिस्थिति में रह रहे थे । हम हिमाचल प्रदेश के आदरणीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के आभारी हैं कि उन्होंने हमारी परिस्थिति को समझा और क्रियान्वयन किया । हमारी बाबा काशी विश्वनाथ जी से यही प्रार्थना है कि आप ऐसे ही उदारचेता होकर

दीर्घकाल तक हिमाचल की सेवा करें । इसके साथ छात्रों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय श्री योगी आदित्यनाथ का भी उन्हें हिमाचल भेजने हेतु परिवहन व्यवस्था उपलब्ध करवाने का आभार प्रकट किया है ।

Related posts

इस देश में राम मंदिर सिर्फ मोदी और योगी बनवा सकते हैं, इन दोनों के इलावा किसी में दम नहीं !

Viral Bharat

Lock-Down के दौरान हिमाचल से पड़ोसी राज्यों को भेजी 6.82 लाख क्विंटल हरे मटर व ऑफ सीजन सब्जियां

Viral Bharat

शरची व खाड़ागाड़ पंचायत में होगा 3 करोड़ 11 लाख की लागत वाली योजना से पेय जल संकट का समाधान

Viral Bharat