राजनीती राज्यों से

जयराम सरकार का ऐतहासिक फैसला मनरेगा के अंतर्गत अपनी भूमि में कार्य करने की स्वीकृति प्रदान

हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार ने आज बहुत ही बड़ा फैसला लिया है। आज अगर इस फैसले को एक ऐतहासिक फैसला बोला जाये तो बिलकुल गलत नहीं होगा। जी हाँ जायर राम सरकार ने आज प्रदेश की जनता के हितों में ध्यान रखते हुए बहुत बड़ा फैसला लिया है। अब प्रदेश में बेरोजगार ग्रामीणों को मनरेगा के अंतर्गत अपनी भूमि में कार्य करने की स्वीकृति प्रदान की है।

ये कार्य ग्राम सभा द्वारा स्वीकृत परियोजनाओं की शेल्फ में शामिल न होने पर भी किए जा सकेंगे। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने आज ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष के दौरान 260 लाख कार्य दिवसों का सृजन कर कुल 859 करोड़ रुपये की धनराशि व्यय की गई जबकि इस वित्त वर्ष अभी तक मनरेगा के अंतर्गत 54 करोड़ रुपये खर्च करके 22 लाख कार्य दिवस सृजित किए जा चुके हैं।

मनरेगा कार्य में पारदर्शिता के लिए लागू किया सिक्योर सॉफ्टवेयर

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग ने भी मनरेगा के अंतर्गत बनी लोक निर्माण विभाग की सड़कों और जल शक्ति विभाग की ट्रेंचिज के रखरखाव के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

मनरेगा कार्य में पारदर्शिता सुनिश्चित बनाने के लिए विभाग ने सिक्योर सॉफ्टवेयर लागू किया है। मनरेगा के अंतर्गत शत-प्रतिशत कार्य सीधे हंस्तातरण (डीबीटी) के माध्यम किया जा रहा है। कार्य स्थल पर मनरेगा कार्यकर्ताओं को घर में निर्मित फेस कवर, साबुन और जल आदि प्रदान किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भवन और अन्य सन्निर्माण कल्याण बोर्ड के अंतर्गत पंजीकृत 12,835 मनरेगा कार्यकर्ताओं ने 90 दिन का कार्य पूर्ण किया है।

Related posts

Himachal News – कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में सब एक,सर्वदलीय बैठक में अहम फैसले

Viral Bharat

हिमाचल प्रदेश स्वास्थ्य बीमा योजना (हिम केयर) के लाभ,जनवरी से दुबारा बनेगे कार्ड

Viral Bharat

नव विवाहित को आज आशीर्वाद देने जेपी नड्डा के घर पहुंचे राज्यपाल,सीएम जयराम सहित कई अन्य नेता

Viral Bharat