राजनीती राज्यों से

अब प्रदेश कांग्रेस मुख्यमंत्री जयराम की वर्चुअल रैलियों से बौखलाई,कोरोना महामारी के बीच जनता से संपर्क साधने में सीएम आगे

जयराम सरकार की वर्चुअल रैली से कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से बौखला चुकी है । हर बात पर राजनीति करने वाली कांग्रेस पार्टी अब इस वर्चुअल रैली को लेकर भी राजनीति करने से बाज नहीं आ रही है। कांग्रेसी नेता इस बात से दुखी है कि किस तरह से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कोरोना महामारी के बीच भी आम जनता और अपने कार्यकर्ताओं के साथ डिजिटल तरीके से पूरी तरह से संपर्क में है ।

आपको जानकर हैरानी होगी कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने वर्चुअल रैली के माध्यम से अभी तक लाखों लोगों के साथ सीधा संपर्क साध लिया । यही वजह है कि कांग्रेस पार्टी बौखलाई हुई है मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कोरोना महामारी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ना सिर्फ हर जिला के प्रशासन से संपर्क साधे रखा बल्कि हर पंचायत प्रतिनिधि से भी इस दौरान वह चर्चा करते रहे ओर कोरोना के चलते किस तरह पंचायतें सहयोग कर रही हैं उसे लेकर भी पूरी अपडेट उनसे प्राप्त करते रहे ।

जयराम सरकार ने टेक्नोलॉजी के माध्यम से इस कोरोना महामारी के बीच भी प्रदेश की जनता के साथ संपर्क बनाए रखा तो इसमें बुरा क्या है ? सवाल यह है कि अगर कांग्रेस वालों में यह काबिलियत नहीं है तो इसमें भाजपा की क्या गलती है ? गलती तो सारी कांग्रेस वालों की है विपक्ष में रहकर भी पार्टी का कर्तव्य बनता था कि वह आम जनता के साथ संपर्क बनाए रखती ।

आज के समय इतनी सारी एप्लीकेशन है जिनके माध्यम से जनता के साथ सीधी बातचीत हो सकती थी लेकिन कांग्रेस ने इस महामारी के बीच सिर्फ राजनीति करने का काम किया और उसके अलावा वह कुछ नहीं कर पाए।

मुख्यमंत्री द्वारा हर क्षेत्र में की जा रही वर्चुअल रैली को लेकर ना सिर्फ कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ा है जो कि इस दौरान एक कोरोना योद्धा की तरह ही लोगों की सेवा में कार्य कर रहे हैं, बल्कि आम जनता के विश्वास को भी मजबूती मिली है ।

एक नेता कोंग्रेस में ऐसे है जो मुख्यमंत्री जी को सलाह देते है अपने कार्यालय से निकल कर इन वेर्चुअल रैल्लियों को छोड़ कर बाहर जाएँ और कहते है की मुख्यमंत्री जी आइसोलेशन से निकल कर जनता में जाएँ । लेकिन दूसरे को सलाह देने वाले नेता आज स्वयं आइसोलेशन में चले गए है । ऐसे वक़्त में लापरवाही नहीं चलती ये हीरो बनने का समय नहीं है सोच समझकर काम करने का समय है जो मुख्यमंत्री अच्छे से कर रहे हैं।

करोना महामारी के बीच जरूरी नहीं है हर काम सड़क में उतर कर ही हो सब अपने दिमाग की बात है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का जो कर्तव्य था जो उन्हें करना चाहिए था वह कार्य उन्होंने पूरी निष्ठा के साथ किया है ।

यही वजह है कि आज पूरे देश में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के उस कार्य की चर्चा भी हुई है जिसमें वह हर जिला की पंचायती राज प्रतिनिधि से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात कर चुके हैं । आज दिल्ली में सबसे खराब हालत है और दूसरे कई राज्य है जिनमें हालत बहुत खराब है । उन सभी राज्यों से लाखों लोगों को निकालकर मुख्यमंत्री उनके प्रदेश उनके घर तक पहुंचा चुके हैं ये अपने आप में दिखाता है कि एक मुख्यमंत्री को जो कार्य करना चाहिए था उन्होंने वह कार्य बहुत अच्छे से निभाया है खैर कांग्रेस ने तो इस मुद्दे पर भी राजनीति ही की थी ।

अंत में हम इतना ही लिखेंगे कि राजनीति अपनी जगह है और काम करना अपनी जगह है । उम्मीद करते हैं कांग्रेस राजनीति करना बंद करके प्रदेश सरकार के साथ मिलकर इस महामारी के खिलाफ लड़ने में अपना सहयोग दें वही जनता के लिए भी बेहतर है । मुझे लगता है मुकेश का लिखना की आइसोलेशन में गया ठीक नही होगा।क्योंकि वो लोगो के घर दुख बांटने गया था

Related posts

सोशल मीडिया और व्हाट्सएप पर वायरल हो रही है Fake News, जिसमें हिमाचल सरकार में नए मंत्री कौन होंगे दिखाया गया है

Viral Bharat

Himachal News – हिमाचल में तीन और मरीज हुए ठीक, अब सात सक्रिय केस सरकार के सफल प्रयास और जनता के सहयोग से कोरोना मुक्त होता हिमाचल

Viral Bharat

जनमंच ऐसे बना वरदान, लोगों के बच रहे पैसे और समय लेकिन इससे बड़ी सुबिधा लोगों को घर बैठे मुख्यमंत्री देने वाले हैं

Viral Bharat