Uncategorized

जयराम सरकार ने मजबूती से लड़ी है कोरोना के खिलाफ लड़ाई,ये आंकड़े हैं उसके गवाह

आज पूरी दुनिया कोविड-19 महामारी से लड़ रही है भारत भी इससे अछूता नहीं रहा है। कोविड-19 की अब तक कोई वैक्सीन नहीं बनी है इसलिए यह लड़ाई अभी और लंबी चल सकती है। दुनिया के बाकी देशों के मुकाबले भारत की जनसंख्या बहुत ज्यादा है लेकिन केंद्र सरकार द्वारा समय पर लिए गए कुछ निर्णयों की वजह से आज भारत में अभी भी स्थिति इतनी गंभीर नहीं हुई है।

जिस तेजी से अभी भारत में केस बढ़ रहे हैं उसी तेजी से लोग स्वस्थ भी हो रहे हैं। भारत का रिकवरी रेट बहुत ज्यादा बेहतर है यही वजह रही है कि अन्य देशों के मुकाबले भारत में ठीक होने वालों की संख्या काफी अधिक है। अब बात करें कोविड- 19 को लेकर राज्यों की तैयारियों पर तो हर राज्य कोविड-19 को लेकर अपने स्तर पर लड़ाई लड़ रहा है।

This image has an empty alt attribute; its file name is Screenshot_20200725-130429_Aarogya-Setu.jpg

भारत दुनिया में कोरोना वायरस से सबसे कम संक्रमण और मृत्युदर वाले देशों में से एक है, यहां कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के ठीक होने की दर 63.45 प्रतिशत है जबकि मृत्युदर 2.3 प्रतिशत है.

This image has an empty alt attribute; its file name is Screenshot_20200725-130442_Aarogya-Setu-953x1024.jpg

भारत की जनसख्यां 1 अरब 38 करोड़ से ज्यादा है और अभी भारत में कुल कोरोना मरीजों की संख्यां है 1336861 इसमें से अभी तक 849432 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि कुल मौतें हुई हैं 31358। यानि अभी देश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की कुल एक्टिव संख्यां है 456077 . कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा अन्य देशों की तुलना में भारत में कम इसलिए है क्योंकि यहां ठीक होने वालों की संख्या ज्यादा है। अधिकतर मौतें कोरोना की वजह से उन्ही की हुई है जो किसी ना किसी दूसरी गंभीर बीमारी से पीड़ित रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश ने कोविड-19 को लेकर बहुत अच्छे से लड़ाई लड़ी है। हिमाचल प्रदेश में एक वक्त ऐसा था जब हिमाचल प्रदेश पूरी तरह कोविड-19 महामारी से मुक्त हो चला था। लेकिन हिमाचल के बाहर अन्य राज्यों में फंसे हुए लाखों लोगों को हिमाचल प्रदेश लाने का कार्य बाद में प्रदेश की जयराम सरकार ने किया और दो लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित हिमाचल प्रदेश पहुंचाया। विपक्ष ने उस समय भी राजनीती करने में कोई कसर नहीं छोड़ी लेकिन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने साफ़ कहा बाहर फंसे हिमाचल के लोग पराये नहीं अपने हैं उन्हें यूँ मरने के लिए नहीं छोड़ सकते।

जितने भी कोविड-19 के केस हिमाचल प्रदेश में आये हैं लगभग वह सभी बाहरी राज्यों के ही हिमाचल वासियों में पाएंगे कोविड-19 लक्षणों की वजह से बड़े हैं और अभी भी जो केस बड़े हैं वह बाहरी राज्य से आए हुए लोगों की वजह से ही बड़े हैं। कांगड़ा और हमीरपुर में स्थिति पहले अचानक केस बढ़ने से खराब हुई थी लेकिन आज की स्थिति देखें तो साफ़ नजर आता है इन दोनों जिलों में स्थिति लगभग ठीक हो चुकी है।

कोरोना महामारी के खिलाफ मजबूती से लड़ने के लिए देश की इंडिपेंडेंट एजेंसी आईएएनएस-सी वोटर सर्वे द्वारा किए गए सर्वेक्षण के आधार पर मुख्यमंत्री जयराम काे देश का बेस्ट परफाॅर्मिंग मुख्यमंत्री और भाजपा शासित राज्यों में सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री घोषित किया जा चूका है। ये दिखाता है की हिमाचल सरकार मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पूरी निष्ठां से ये लड़ाई अभी तक लड़ी है।

बाहर के राज्यों से प्रदेश लाये गए हिमाचल के लोगों के लिए सरकार ने बड़े कदम उठाये ताकि संक्रमण दूसरों में ना फैल सके। प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए महत्वपूर्ण कदमों की वजह से ही आज हिमाचल प्रदेश में अन्य राज्यों के मुकाबले स्थिति काफी बेहतर है। राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर उठाए गए जरूरी कदमों की वजह से ही आज हिमाचल प्रदेश में जो रिकवरी रेट है काफी बेहतर है। राज्य सरकार द्वारा रेड जोन से लाये गए हिमाचल वासियों को इंस्टीट्यूशनल कोरेण्टाइन में रखा गया यही वजह रही कि हिमाचल में ट्रांसमिशन कोविड-19 का नहीं हो पाया।

आज कुछ आंकड़े हम आपके सामने लेकर आए हैं जिन्हें देखकर आप समझ जाएंगे कि हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा जो भी जरूरी कदम थे और सभी कदम कोविड-19 से लड़ाई में उठाए गए और यही वजह रही है कि आज भी हिमाचल प्रदेश में स्थिति अन्य राज्यों के मुकाबले बेहतर है। ये आंकड़े खास तौर पर विपक्ष को जरूर देखने चाहिए –

राज्य में सिमित साधन होने के बाद भी प्रदेश सरकार मजबूती से कोरोना के खिलाफ लड़ रही है और बड़े स्तर पर टेस्टिंग करवा रही है। आप इस ग्राफ में देख सकते हैं जहां सबसे ज्यादा केस हैं महाराष्ट्र उसके बराबर हम प्रदेश में टेस्टिंग करवा रहे हैं ये दिखाता है प्रदेश सरकार कोरोना के खिलाफ कितनी गंभीरता से कार्य कर रही है। देश में कोरोना से मृत्यु दर 2.45 फीसदी है, जबकि हिमाचल में 0.84 है। इसी तरह देश में (10 लाख) पर 11 हजार और हिमाचल में 17 हजार लोगों के टेस्ट हो रहे हैं। कोरोना संक्रमण का पॉजिटिव रेट भी अन्य राज्यों की अपेक्षा हिमाचल का बेहतर है। यह 1.6 फीसदी है जबकि पंजाब का 2.3, उत्तराखंड का 3.78, हरियाणा का 5.8 और दिल्ली का 2. 95 फीसदी है।

हिमाचल प्रदेश अभी भी उस लिस्ट में शामिल है जिनमें कुल केस 2 हजार से कम है और ठीक होने वालों की संख्या ज्यादा है।

https://indianewsstudio.com/wp-content/uploads/2020/07/image-6-768x430.png

ये वो आंकड़े है जो दिखाते हैं कि प्रदेश किस तरह मजबूती से लड़ाई लड़ रहा है। लेकिन विपक्ष को जो भूमिका इस कोरोना काल में निभानी चाहिए थी वो भूमिका विपक्ष ने नहीं निभाई उल्टा जयराम सरकार द्वारा कोरोना काल में लड़ी जा रही इस लड़ाई में भी राजनितिक रोटियां सेंकी गयी।

Related posts

Sheetal Thakur – The Natural Beauty

Viral Bharat

India Celebrates Republic Day !

Viral Bharat

Top Selling Women Perfume Brands

Yashika