राज्यों से

हिमाचल यूथ कांग्रेस अध्यक्ष निगम भंडारी दूसरी बार बने सोशल मीडिया पर मजाक का पात्र,लोगों ने दिखाया फ़र्ज़ी खबर शेयर करने पर भंडारी को आईना

एक बार फिर निगम भंडारी हिमाचल यूथ कांग्रेस अध्यक्ष सोशल मीडिया पर कुछ ऐसा कर बैठे हैं कि हर तरफ उनकी आलोचना की जा रही है। ये पहला मौका नहीं है जब इस तरह की हरकत करके उन्होंने पूरी कांग्रेस पार्टी को शर्मिंदा किया हो इससे पहले भी इस तरह की हरकत करने वो हंसी का पात्र सोशल मीडिया पर बन चुके हैं। एक बड़े पद पर बैठे व्यक्ति द्वारा इस तरह की हरकतें बार – बार की जाए तो उस व्यक्ति के व्यक्तित्व पर सवाल उठना लाजमी है।

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि प्रदेश सरकार को घेरने के चकर में एक बार फिर निगम भंडारी ने फर्जी पोस्ट का सहारा लिया। 2018 में सरकार द्वारा लिए गए निर्णय को 2021 की खबर बताकर उनके द्वारा उनके आधिकारिक फेसबुक पेज से शेयर किया गया। जिसके बाद कई कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा सोशल मीडिया पर उनका समर्थन किया गया लेकिन आम जनता द्वारा उसका विरोध सोशल मीडिया पर देखा गया।

इससे पहले एक फर्जी खबर वो सरकार को घेरने के लिए सोशल मीडिया पर डाल चुके हैं जिसके बाद सोशल मीडिया पर कांग्रेस को लेकर बहुत ज्यादा गुस्सा जनता में देखा गया। अब सवाल ये उठता है कि आखिर ऐसी क्या मजबूरी है निगम भंडारी की जो उन्हें फ़र्ज़ी खबरों का सहारा लेना पड़ रहा है।

क्या निगम भंडारी को कांग्रेस में इस पद में बैठने के बाद भी ज्यादा तब्बजो नहीं मिल रही है ? जिस वजह से उन्हें इस तरह फ़र्ज़ी खबरों का सहारा लेना पड रहा है ताकि वो कांग्रेस में अपनी एक अलग छवि बना सके ? लेकिन वजह जो भी हो आज अपनी हरकतों की वजह से ना सिर्फ उन्हें खुद की आलोचना सहन करने पड़ रही है बल्कि कांग्रेस को लेकर भी गुस्सा सोशल मीडिया में लोगों के अंदर देखा गया है।

ये खबर निगम भंडारी द्वारा आज शेयर की गयी है जबकि ये खबर 2018 की है।

खबर की सच्चाई – ये खबर 2018 की है जिसे आज डाला गया ताकि प्रदेश की जनता को गुमराह किया जा सका।

लोगो की प्रतिक्रियाएं निगम भंडारी की पोस्ट पर –

लोगों ने कमेंट करके निगम भंडारी को आईना दिखाने का काम किया है लेकिन उसके बाद भी अभी तक इस खबर को डिलीट नहीं किया गया है।

आपको हम यहां बता दें की निगम भंडारी के लिए फ़र्ज़ी खबर डालना कोई नई बात नहीं है अभी कुछ दिन पहले प्रदेश के लाखों मतदाताओं का अपमान करने वाली खबर डाली गयी थी इनके द्वारा। जिसमें दावा किया गया था कि प्रदेश में और गुजरात में भाजपा की सरकार EVM मशीन में छेड़खानी से बनी है। ये फर्जी खबर डालकर निगम भंडारी ने हिमाचल के मतदाताओं का अपमान किया था जिन्होंने अपना मत देकर भाजपा को 2017 चुनावों में विजय बनाया था।

ये फर्जी खबर 2017 में बीजेपी की जीत के वाद 2018 में फर्जी तरीके से चली थी जिसके बाद खुद कृष्णमूर्ति जी ने सामने आकर इस खबर और अपने बयान का खंडन किया था कि इस तरह का कोई बयान उन्होंने नही दिया था। लेकिन निगम भंडारी ने फिर भी इस फ़र्ज़ी खबर को डाला और प्रदेश के लाखों लोगों को गुमराह करने का काम किया।

11 मार्च 2021 को इस झूठी खबर के दूसरे राज्यों में वायरल होने को लेकर चुनाव आयोग ने FIR दर्ज करवाई है ।

 

 

Related posts

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अधिकारियों को केन्द्र सरकार के आर्थिक पैकेज से अधिकतम लाभ सुनिश्चित करने के दिए निर्देश

Viral Bharat

हिमाचल सरकार द्वारा किये गए प्रयासों की सराहना,अब खुद कोरेंटाइन हुए बाहर से आये लोग कर रहे हैं

Viral Bharat

Success Story 5 : सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत से बंद हुआ पानी का रिसाव,शिकायत करने के तुरंत बाद हुई करवाई

Viral Bharat