धर्म अध्यात्म वायरल

अगर आप भी वैष्णो देवी तीर्थ यात्रा पर जाने की सोच रहे हैं तो उससे पहले जान लें ये नियम,अनदेखी की तो नहीं कर पाएंगे दर्शन

अगर आप भी माता रानी के द्वार दर्शन जाने के लिए तैयार बैठें हैं तो उससे पहले आपको ये खबर पढ़ना बहुत जरूरी है। जी हाँ माता रानी के दर्शन करने के लिए आपको कुछ नियमों का पालन जरूर करना होगा। जम्मू कश्मीर में वैसे तो मां वैष्णों के धाम में हर समय भक्तों का तांता लगा रहता था. ये समय ऐसा है, जब यहां भक्तों की संख्या बढ़ जाती है. 7 अक्टूबर 2021 से शारदीय नवरात्र (Sharadiya Navratri 2021) शुरू हो रहे हैं, जिसकी वजह से मां के दरबार में भारी भीड़ रहती है, ऐसे में यदि आप वैष्णो देवी तीर्थ यात्रा पर जाने का प्लान बना रहे हैं, तो कुछ जरूरी नियमों को जान लें. यदि इन नियमों की अनदेखी की, तो हो सकता है आप मां वैष्णो देवी के दर्शन भी न कर पाएं. आइए जानते हैं वैष्णो देवी की यात्रा के ​खास नियम. श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड द्वारा कोरोना महामारी को देखते हुए श्रद्धालुओं के लिए कुछ गाइडलाइन जारी की हैं, जिन्हें पूरा किए बिना आप माता वैष्णो देवी दरबार में एंट्री नहीं कर पाएंगे.

केवल उन्हीं तीर्थयात्रियों को अनुमति दी जाएगी, जिन्होंने ऑनलाइन पंजीकरण कराया है. तीर्थयात्रियों के लिए अपने मोबाइल फोन पर ‘आरोग्य सेतु’ एप्लिकेशन का उपयोग करना अनिवार्य है. पूरी तरह स्वस्थ या फिर जिनमें कोरोना का कोई लक्षण नहीं हैं, उन्हीं तीर्थयात्रियों को यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी.फेस मास्क और फेस कवर’ का प्रयोग करना अनिवार्य है.जम्मू-कश्मीर के बाहरी राज्यों से आ रहे लोगों को कोविड 19 एंटिजेन टेस्ट करवाना होगा. जिन लोगों की कोविड रिपोर्ट निगेटिव होगी उन्हें ही मां वैष्णो देवी की यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी. जम्मू कश्मीर के कोविड रेड जोन से आ रहे लोगों को भी कोविड 19 एंटिजेन टेस्ट करवाना होगा.

रेड जोन के अंतर्गत आने वाले जिले के तीर्थयात्रियों को भी कोविड -19 परीक्षण से गुजरना होगा और परिणाम ‘नकारात्मक’ होने पर ही आगे बढ़ने की अनुमति होगी. तीर्थयात्रियों को गर्भगृह में प्रवेश करने से पहले अपने हाथ और पैर साबुन और पानी से बार-बार धोना चाहिए। तीर्थयात्रियों को हर समय छह फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखना आवश्यक है. मूर्तियों को छूने की अनुमति नहीं है.
60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति, कॉमरेडिटी वाले व्यक्ति, गर्भवती महिलाओं और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को घर पर रहने की सलाह दी जाती है.

अपने साथ रखें ये जरूरी कागजात
सभी यात्रियों को यात्रा के दौरान फोटो पहचान पत्र और पते का प्रमाण साथ रखना होगा, इसके बिना यात्रा की अनुमति नहीं है. पहचान पत्र के रूप में पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी या फिर पैन कार्ड रख सकते हैं.

इस तरह कराएं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन
श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड (SMVDSB) ने श्रद्धालुओं की सुविधाओं को देखते हुए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू की है. यात्री अब यात्रा पंजीकरण पर्ची, कक्ष बुकिंग और पूजन सहित सभी बुकिंग ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं. ऑनलाइन यात्रा पर्ची श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट से मिलेगी. वेबसाइट पर जाकर पहले पंजीकरण करना होगा, जिसके बाद एक आईडी और पासवर्ड का चयन करना होगा. जिसके बाद उपयोगकर्ता का नाम और पासवर्ड बोर्ड की वेबसाइट के होम पेज पर या पॉपअप स्क्रीन पर रजिस्टर लिंक पर क्लिक करके पंजीकरण करके प्राप्त किया जा सकता है.

Related posts

पाकिस्तान बर्बाद – चीन हड़पने के लिए तैयार.

Viral Bharat

जिहादियों और अंग्रेज़ो द्वारा, हिन्दू धर्म को बदनाम करने के लिए पूरी दुनिया में शिवलिंग पे फैलाया गया भ्र्म ??

Viral Bharat

प्रदेश में निजी स्कूलों की मनमानी पर सरकार ने लगाई लगाम,हर साल फीस-फंड नहीं बढ़ा सकेंगे निजी स्कूल

Viral Bharat